Logo
ब्रेकिंग
कर्तव्य पथ पर पहली बार मार्च पास्ट करेगी मिस्र सेना की टुकड़ी, परेड में दिखेगा बहुत कुछ नया भारतीय शेयर बाजार विदेशी निवशकों को लगा महंगा रिपब्लिक डे पर एयर इंडिया ने फ्लाइट्स टिकट पर दिया ऑफर छिंदवाड़ा में हिंदूवादी संगठनों ने पठान फिल्म के पोस्टर फाड़े कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय के बयान पर रविशंकर प्रसाद का फूटा गुस्सा मध्य प्रदेश के राज्यपाल भोपाल में और सीएम शिवराज जबलपुर में करेंगे ध्वजारोहण आप-भाजपा पार्षदों के हंगामे के बीच फिर टला मेयर चुनाव, सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित मुंबई: देशभक्ति से भरपूर फिल्म है 'पठान' फर्स्ट शो के बाद 300 शो बढ़ाए गए, अब तक की सबसे बड़ी रिलीज ... इंदौर में हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं पर FIR, पठान मूवी के विरोध में मुस्लिम संगठनों पर आपत्तिजनक ना... अब छिंदवाड़ा में पठान का विरोध, राष्ट्रीय हिंदू सेना ने किया पुतला दहन..जमकर की नारेबाजी

हिंद प्रशांत क्षेत्रों में सख्त भूमिका निभाना जारी रखेगा अमेरिका: एंटनी ब्लिंकन

जकार्ता। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि वाशिंगटन हिंद प्रशांत क्षेत्रों में अपनी स्थिर भूमिका निभाना जारी रखेगा। यह बात ब्लिंकन ने मंगलवार को इंडोनेशिया के जकार्ता में एक कार्यक्रम के दौरान अमेरिका और हिंद प्रशांत क्षेत्रों पर टिप्पणी करते हुए कही। उन्होंने कहा कि हिंद प्रशांत विश्व में आज सबसे तेजी से विकसित होने वाले क्षेत्र है।

ब्लिंकन ने कहा कि हिंद प्रशांत क्षेत्र में 21वीं सदी में जो कुछ भी होता है, उसका असर पूरे विश्व पर भी पड़ेगा। उन्होंने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि हिंद प्रशांत क्षेत्र सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाला क्षेत्र है। इसके चलते अमेरिका सतर्क रूप से यहां अपनी भूमिका निभाना जारी रखेगा। आपको बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री इंडोनेशिया के दौर पर हैं। इस दौरान उन्होंने सोमवार को इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो से मुलाकात भी की। इस दौरान दोनों नेताओं ने हिंद प्रशांत में सुरक्षा और शांति को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाने की जरूरत को लेकर भी चर्चा की। वहीं, इसमें दोनों देशों को साथ मिलकर कैसे काम करना है इस पर बातचीत भी की

गौरतलब है कि ग्रुप आफ सेवन (जी-7) के विदेश मंत्रियों ने रविवार को बीजिंग की जबरदस्ती लागू करने वाली आर्थिक नीतियों के बारे में चिंता व्यक्त की थी। इसके दो दिन बाद ब्लिंकन का यह बयान आया है। जी-7 सम्मेलन के विदेश मंत्रियों ने रविवार को पहली बार अपने समकक्षों आसियान देशों के साथ बातचीत की, जिसमें आस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया और भारत भी शामिल थे। जी-7 सभा के दूसरे दिन आसियान देशों के 10 सदस्यों और तीन अन्य क्षेत्रीय शक्तियों से चीन की नितियों पर बातचीत की गई। लिज ट्रस ने लिवरपूल में जी-7 सम्मेलन को लेकर कहा कि इस बैठक से साफ हो गया है कि हम सब चीन की जबरदस्ती आर्थिक नीतियों को लेकर चिंतित हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.