Logo
ब्रेकिंग
मुख्यमंत्री ने ललित भवन में स्व० ललित नारायण मिश्र जी की प्रतिमा का किया अनावरण मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव मुख्यमंत्री ने लोहिया पथ चक्र के निर्माण कार्य की प्रगति का किया निरीक्षण आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म 'द क्रू' में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार... ठोस क्रियान्वयन के लिए निरंतर सत्यापन किया जाए : राज्यपाल पटेल मध्य प्रदेश में कलेक्टर-कमिश्नर कान्फ्रेंस शुरू, सीएम शिवराज कर रहे अधिकारियों से बात बजट सत्र को लेकर सर्वदलीय बैठक जारी, कांग्रेस से कोई नहीं पहुंचा

बांग्लादेश में राष्ट्रपति कोविंद ने पुनर्निर्मित रमना काली मंदिर का किया उद्घाटन, बोले- भारत मदद के लिए प्रतिबद्ध

ढाकाः बांग्लादेश में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने  पुनर्निर्मित  ऐतिहासिक रमना काली मंदिर का उद्घाटन किया। इस मंदिर को बांग्लादेश-भारत की सरकारों व लोगों ने बहाल करने में मदद की जिसे पाकिस्तानी सेना ने ध्वस्त कर दिया था। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि भारतीयों के दिलों में बांग्लादेश का एक खास स्थान है। हमारा घनिष्ठ संबंध है जो सदियों पुराने रिश्तेदारी, साझा भाषा और संस्कृति पर आधारित है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि बांग्लादेश को मजबूत अर्थव्यवस्था और अधिक समृद्ध बनाने के लिए भारत उसकी मदद करने को लेकर प्रतिबद्ध है। राष्ट्रपति कोविंद ने बांग्लादेश की अपनी पहली यात्रा के समापन से पहले भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए ये बातें कहीं। राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि भारतीयों के दिलों में बांग्लादेश का एक विशेष स्थान है। हमारे दशकों पुरानी नातेदारी, साझा भाषा तथा संस्कृति पर आधारित विशिष्ट रूप से करीबी संबंध हैं। बांग्लादेश के लिए अपने समर्थन को दोहराते हुए कोविंद ने कहा कि भारत ऐसे बांग्लादेश के समर्थन में खड़ा रहेगा जो इस देश के मुक्ति आंदोलन से निकले मूल्यों को आत्मसात करता है।

राष्ट्रपति ने कहा, भारत एक मजबूत अर्थव्यवस्था की ओर बांग्लादेश की यात्रा में उसकी मदद करने, अधिक समृद्ध होने के सफर में आपके साथ भागीदारी करने के लिए प्रतिबद्ध है। राष्ट्रपति कोविंद ने जुल्म से आजादी पाने के लिए बांग्लादेश के लोगों द्वारा किए कठोर बलिदानों को भी याद किया। उन्होंने कहा कि हम विकट बाधाओं के खिलाफ लड़ने में आपके अदम्य साहस को सलाम करते हैं। मुझे विश्वास है कि 1971 में बहे खून और बलिदान से बना रिश्ता भविष्य में भी हमारे देशों को बांधकर रखेगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.