Logo
ब्रेकिंग
कर्तव्य पथ पर पहली बार मार्च पास्ट करेगी मिस्र सेना की टुकड़ी, परेड में दिखेगा बहुत कुछ नया भारतीय शेयर बाजार विदेशी निवशकों को लगा महंगा रिपब्लिक डे पर एयर इंडिया ने फ्लाइट्स टिकट पर दिया ऑफर छिंदवाड़ा में हिंदूवादी संगठनों ने पठान फिल्म के पोस्टर फाड़े कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय के बयान पर रविशंकर प्रसाद का फूटा गुस्सा मध्य प्रदेश के राज्यपाल भोपाल में और सीएम शिवराज जबलपुर में करेंगे ध्वजारोहण आप-भाजपा पार्षदों के हंगामे के बीच फिर टला मेयर चुनाव, सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित मुंबई: देशभक्ति से भरपूर फिल्म है 'पठान' फर्स्ट शो के बाद 300 शो बढ़ाए गए, अब तक की सबसे बड़ी रिलीज ... इंदौर में हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं पर FIR, पठान मूवी के विरोध में मुस्लिम संगठनों पर आपत्तिजनक ना... अब छिंदवाड़ा में पठान का विरोध, राष्ट्रीय हिंदू सेना ने किया पुतला दहन..जमकर की नारेबाजी

रोहिणी कोर्ट ब्लास्ट: दिल्ली पुलिस ने डीआरडीओ वैज्ञानिक को किया गिरफ्तार, पड़ोसी को मारने के लिए लगाया था विस्फोटक

नई दिल्लीः रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के एक वैज्ञानिक को इस महीने की शुरुआत में यहां रोहिणी जिला अदालत में अपने पड़ोसी को मारने के इरादे से एक टिफिन में आईईडी रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। गौरतलब है कि नौ दिसंबर को अदालत कक्ष संख्या 102 के भीतर हुए विस्फोट में एक व्यक्ति घायल हो गया था। पुलिस ने बताया कि आरोपी भारत भूषण कटारिया (47) को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया।

दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने बताया कि डीआरडीओ में वरिष्ठ वैज्ञानिक कटारिया घटना वाले दिन दो बैग के साथ सुबह नौ बजकर 33 मिनट पर अदालत में घुसा और एक बैग उसने अदालत कक्ष संख्या 102 में ही छोड़ दिया। इसके बाद वह 10 बजकर 35 मिनट पर अदालत परिसर से बाहर निकल गया। पुलिस ने बताया कि कटारिया ने अदालत कक्ष में एक टिफिन के भीतर विस्फोटक रखा था, क्योंकि वह अपने पड़ोसी को मारना चाहता था, जो एक वकील है।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ कई मामले दर्ज करा रखे हैं। वे पड़ोसी हैं और एक ही इमारत में रहते हैं। प्रथम दृष्टया ऐसा लगता है कि कटारिया को वकील से रंजिश थी।” पुलिस ने बताया कि वकील इमारत की भूतल पर रहता है जबकि आरोपी तीसरी मंजिल पर रहता है।

कटारिया ने वकील के खिलाफ पांच दीवानी मामले दायर किए थे, जबकि वकील ने आरोपी के खिलाफ सात मामले दायर कर रखे हैं। विस्फोट के बाद फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी (एफएसएल) और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के दलों ने मौके का मुआयना किया था और यह पाया था कि आईईडी बनाने में इस्तेमाल सामान बाजार में आसानी से उपलब्ध है

पुलिस ने बताया कि आईईडी सही तरीके से जोड़ा नहीं गया था, जिससे केवल डेटोनेटर में ही विस्फोट हुआ था। उन्होंने बताया कि जांच अधिकारियों ने घटना वाले दिन अदालत परिसर में प्रवेश करने वाली करीब 100 कारों की जांच की और अदालत से ली गयी सीसीटीवी फुटेज खंगाली।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.