Logo
ब्रेकिंग
व्हाट्सएप ने दिसंबर में भारत में 36 लाख से अधिक आपत्तिजनक अकाउंट्स पर लगाया प्रतिबंध मुख्यमंत्री ने 'समाधान यात्रा' के क्रम में सुपौल जिले में विकास योजनाओं का लिया जायजा Budget 2023: बजट में बुजुर्गों के लिए बड़ा ऐलान, यह योजना बनेगी सीनियर सिटीजन्स का सहारा केन्द्रीय बजट में दूरदृष्टि का आभाव : सीएम यह बजट मोदी सरकार के आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को और गति देगा: अमित शाह 12 घंटों के अंदर कई जिलों में हो सकती है तेज बारिश, ओले गिरने के भी आसार यूएन प्रमुख ने पाकिस्तान के पेशावर मस्जिद में आत्मघाती हमले की निंदा की आम बजट से है बहुत उम्मीदें मध्यम वर्ग को बड़ी सौगात, अब 7 लाख तक ले सकते हैं टैक्स छूट आयुष्मान खुराना का नाम मुंबई की बजाय पंजाब टीम में है शामिल

पटना में बढ़ाई गई मांझी के आवास की सुरक्षा, ब्राह्मण समाज के ऐलान की वजह से चौकस रही पुलिस

पटना। बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी (Ex CM Jitan Ram Manjhi) के आवास की सुरक्षा बुधवार को बढ़ा दी गई। हालांकि, मांझी अभी पटना में नहीं थे लेकिन सचिवालय थाने की पुलिस वहां अलर्ट मोड में तैनात हो गई। दरअसल कुछ ब्राह्मण संगठनों ने बुधवार को मांझी के आवास पर शुद्धिकरण और पूजा-पाठ करने की घोषणा कर दी थी। इसको देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी। उनके आवास के आसपास का इलाका छावनी में तब्‍दील हो गया। प्रदर्शनकारियों के आने की स्थिति में उन्‍हें रोकने के लिए बैरिकेडिंग की तैयारी भी पुलिस ने कर रखी थी। बता दें कि मांझी ने बीते दिनों ब्राह्मणों के खिलाफ आपत्तिजनक शब्‍दों का इस्‍तेमाल किया था। बुधवार को गया में भी उन्‍होंने अपनी बात दोहराई।

ब्राह्मण संगठनों ने दी थी आंदोलन की चेतावनी 

मालूम हो कि पश्चिमी चंपारण में रविवार को आयोजित एक कार्यक्रम में पूर्व सीएम ने आपत्तिजनक बातें कहीं थीं। इसके बाद सियासत गरमा गई। जगह-जगह उनका पुतला फूंका गया। मामला तब और गर्म हो गया जब भाजपा के एक नेता ने उनकी जुबान काटने पर 11 लाख रुपये के इनाम की घोषणा कर दी। हालांकि, भाजपा नेता को पार्टी ने इसको लेकर निलंबित कर दिया है। इस बीच मांझी की पार्टी हम की ओर से भी करारा पलटवार किया गया। पक्ष-विपक्ष के नेताओं ने मांझी के बयान पर आपत्ति जताई। इस बीच एक बार फिर मांझी ने बोधगया में ऐसी बातें कह दी हैं जिससे मामला शांत होता नहीं दिख रहा। उन्‍होंने कहा कि ब्रह्म को जानने वाला ब्राह्मण होता है। ऐसे ब्राह्मण का वे सम्‍मान करते हैं। लेकिन आज ब्राह्मण के नाम पर कई लोग पोथी-पतरा लेकर निकल जाते हैं। उन्‍हें तनिक भी ज्ञान नहीं होता। ब्राह्मण होते हुए भी वे मांस-मदिरा का सेवन करते हैं। उन्‍होंने अपशब्‍द का इस्‍तेमाल करते हुए कहा कि हम इस शब्‍द का उपयोग बार-बार करते रहेंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.