Logo
ब्रेकिंग
अमित शाह कल करेंगे चुनावी राज्य कर्नाटक का दौरा अपनी छोड़ सारे जहां की चिंता कर भोपाल के विद्यार्थी ने जीता पीएम मोदी का मन दिल्ली में न्यूनतम तापमान 6.1 डिग्री सेल्सियस, वायु गुणवत्ता ‘खराब' श्रेणी में बजट से पूर्व भारत को US फार्मा उद्योग की सलाह- दवा क्षेत्र के लिए बनाए अनुसंधान एवं विकास नीति Corona Update: भारत में दम तोड़ रहा कोरोना, 24 घंटे में 100 से भी कम नए केस सड़क का खंबा नहीं होता तो अंधगति से आ रहे ट्रक थाना मोबाइल को ठोकता हुआ अंदर होता, cctv में दिखा कैसे... MP: मुरैना में बड़ा हादसा, वायुसेना का सुखोई-30 और मिराज हुए क्रैश सूरत के उधना इलाके में कार शोरूम में लगी भीषण आग रूठों को मनाने के लिए कांग्रेस चलाएगी घर वापसी अभियान ‘मूड ऑफ दि नेशन सर्वे’ में बजा CM योगी का डंका, 39.1 फीसदी लोगों ने माना बेस्ट परफॉर्मिंग चीफ मिनिस्...

नारी निकेतन में 15 दिनों में 4 महिलाओं की मौत से हड़कंप, DM ने दिए जांच के आदेश

नोएडा: दिल्ली से सटे नोएडा के सेक्टर 34 स्थित नारी निकेतन में एक पखवाड़े के अंदर हुई 4 महिलाओं की मौत के बाद हड़कंप मच गया है। महिलाओं की सुरक्षा का दावा करने वाले नारी निकेतन के प्रबंधन की कार्यशैली सवालों के घेरे में आ गई है। डीएम ने जिला प्रोबेशन अधिकारी को मौके पर जाकर जांच करने के आदेश दिए हैं उनका कहना है कि जांच रिपोर्ट के बाद आगे कार्रवाई की जाएगी। मृतकों का पोस्टमार्टम भी डॉक्टरों के पैनल से कराया जाएगा।

जानिए क्या है मामला?
नोएडा के सेक्टर 34 में स्थित राजकीय महिला शरणालय एवं बाल गृह मे मानसिक रूप से कमजोर महिलाओं को मजिस्ट्रेट के आदेश पर रखा जाता है, लेकिन इस महिला शरणालय पिछले 15 दिनों में हुई 4 महिलाओं की मौत के बाद हड़कंप मचा हुआ है। बीते 20 दिसंबर को 50 वर्षीय सुनीता, 23 दिसंबर को 50 वर्षीय आराधना, 30 सितंबर को 25 वर्षीय प्रियंका, और 3 जनवरी को 30 वर्षीय रूबी की मौत जिला अस्पताल में हुई है। इसके बाद महिला की सुरक्षा का दावा करने वाले नारी निकेतन के प्रबंधक की कार्यकारी सवालों के घेरे में है।

150 महिलाओं की देखभाल के लिए महज 8 कर्मचारी
जानकारी के अनुसार इस समय 150 महिलाओं की देखभाल के लिए महज आठ कर्मचारी हैं, जबकि इनकी संख्या 48 होनी चाहिए। स्टाफ की कमी के कारण महिलाओं की सही से देखभाल नहीं हो पाती है। यही कारण है कि आए दिन यहां रहने वाली महिलाएं बीमार हो जाती हैं। इनकी सुरक्षा व्यवस्था और देखरेख के लिए लगभग 72 सीसीटीवी कैमरे लगे हुए है, लेकिन कई कैमरे खराब है। उक्त संस्था पूर्व में पीपीपी मॉडल पर संचालित थी।

15 दिनों में हुई 4 महिलाओं की मौत
जिन चार महिलाओं की मौत हुई है, इसमें से प्रियंका की मौत के बाद हुए पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में मौत कारण हार्ट अटैक बताया गया है। अन्य महिलाओं की पोस्टमार्टम का खुलासा अब तक नहीं किया गया। बीते 15 दिनों में हुई 4 महिलाओं की मौतजिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। गौतम बुध नगर के डीएम सुभाष हलवाई ने जिला प्रोबेशन अधिकारी को मौके पर जाकर जांच करने के निर्देश दिए हैं। उनका कहना है कि जांच के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

इस पर जिला प्रोबेशन अधिकारी अतुल सोनी का कहना है कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि यह महिलाएं मानसिक रूप से बीमार और सीज़र बीमारी से ग्रसित थी। उन्होंने बताया कि इन महिलाओं को उपचार जिला अस्पताल में डॉक्टर तनुजा गुप्ता द्वारा किया जा रहा था। जिला अस्पताल की नर्स लगातार इनको जरूरी दवाइयां दे रही थी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.