रिषभ पंत ने की बेवकूफी उसे बहादुरी नहीं कहेंगे, पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने उन्हें लगाई फटकार

नई दिल्ली। जोहानसबर्ग टेस्ट मैच की दूसरी पारी में भारतीय बल्लेबाज रिषभ पंत जिस तरह का शाट खेलकर आउट हुए उसकी वजह से उनकी काफी आलोचना की जा रही है। रिषभ पंत जिस समय इस तरह की गैरजिम्मेदारी भरा शाट खेलकर आउट हुए उस वक्त टीम इंडिया को रन की जरूरत थी और उनसे टीम को उम्मीद थी। पंत ने रबादा की गेंद पर बड़ा शाट खेलने की कोशिश की और वो अपना कैच विकेट के पीछे थमा बैठे। पंत के इस तरह से आउट होने के बाद टीम इंडिया के पूर्व ओपनर बल्लेबाज गौतम गंभीर ने भी उनकी आलोचना की।

स्टार स्पोर्ट्स पर रिषभ पंत के शाट के बारे में बात करते हुए गंभीर ने कहा कि उसे आप बेवकूफी कहेंगे बहादुरी नहीं। इस टेस्ट मैच में पुजारा और रहाणे ने भारत की वापसी करवाई थी, लेकिन पंत ने अपना विकेट इस तरह से गंवाकर साउथ अफ्रीका की मैच में वापसी करवा दी। गंभीर ने आगे कहा कि अगर उस शाट पर छक्का भी लग जाता तो उसे आप एक अच्छा शाट नहीं कहते। टेस्ट क्रिकेट में दवाब से निपटना होता है और आपको पता था कि रबाडा अपना चौथा या पांचवां ओवर ही फेंक रहे थे। पंत जब बल्लेबाजी के लिए आए थे तब रहाणे और पुजारा आउट हो चुके थे और उन पर बड़ा दवाब था, लेकिन खराब शाट खेलने की वजह से महज तीन गेंदों पर ही उन्होंने अपना विकेट शून्य पर गंवा दिया।

गंभीर ने आगे कहा कि रिषभ पंत ने जिस तरह का शाट खेला टेस्ट क्रिकेट में उसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है। जाहिर है फील्डिंग साइड और गेंदबाज भी यही चाहते हैं, लेकिन आपको पता होना चाहिए कि आप किस गेंदबाज के खिलाफ मौका ले रहे हैं। इस तरह के विकेट पर क्रीज से बाहर निकलने के बाद रबाडा जैसे गेंदबाज की गेंद पर इस तरह का शाट खेलना इसे बहादुरी तो नहीं ही कहा जा सकता है। पंत को ऐसे समय में दवाब का सामना करना चाहिए था और अगर वो वहां से टीम के लिए 25-30 रन बना लेते तो शायद खेल एक तरफा हो सकता था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ब्रेकिंग
जहानाबाद दोहरे हत्याकांड में सात आरोपियों को सश्रम आजीवन कारावास डोनियर ग्रुप ने लॉन्च किया ‘नियो स्ट्रेच # फ़्रीडम टू मूव’: एक ग्रैंड म्यूज़िकल जिसमें दिखेंगे टाइगर श... छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने हेतु मनी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राबड़ी, मीसा, हेमा यादव के खिलाफ ईडी के पास पुख्ता सबूत, कोई बच नहीं सकता “समान नागरिक संहिता” उत्तराखंड में लागू - अब देश में लागू होने की बारी नगरनौसा हाई स्कूल के मैदान में प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को दिलाया पांच‌ प्रण बिहार में समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को नहीं मिल रहा लाभ : राधिका जिला पदाधिकारी ने रोटी बनाने की मशीन एवं अन्य सामग्री उपलब्ध कराया कटिहार में आरपीएफ ने सुरक्षा सम्मेलन किया आयोजित -आरपीएफ अपराध नियंत्रण में जागरूक करने के प्रयास सफ...