Logo
ब्रेकिंग
बैंक हड़ताल कैंसिल, फाइव डे वीक समेत अन्य मुद्दों पर चर्चा सीएम शिवराज सिंह चौहान उज्जैन सोशल मीडिया कान्क्लेव में हुए शामिल अमित शाह कल करेंगे चुनावी राज्य कर्नाटक का दौरा अपनी छोड़ सारे जहां की चिंता कर भोपाल के विद्यार्थी ने जीता पीएम मोदी का मन दिल्ली में न्यूनतम तापमान 6.1 डिग्री सेल्सियस, वायु गुणवत्ता ‘खराब' श्रेणी में बजट से पूर्व भारत को US फार्मा उद्योग की सलाह- दवा क्षेत्र के लिए बनाए अनुसंधान एवं विकास नीति Corona Update: भारत में दम तोड़ रहा कोरोना, 24 घंटे में 100 से भी कम नए केस सड़क का खंबा नहीं होता तो अंधगति से आ रहे ट्रक थाना मोबाइल को ठोकता हुआ अंदर होता, cctv में दिखा कैसे... MP: मुरैना में बड़ा हादसा, वायुसेना का सुखोई-30 और मिराज हुए क्रैश सूरत के उधना इलाके में कार शोरूम में लगी भीषण आग

IPL 2020: आइपीएल का टाइटल स्पान्सर नहीं होगा अब वीवो, इस कंपनी ने मारी एंट्री और बीसीसीआइ को मिलेंगे इतने रुपये

नई दिल्ली। मोबाइल कंपनी वीवो अब आइपीएल का टाइटल प्रायोजक नहीं होगा। दरअसल इस कंपनी ने आइपीएल के टाइटल स्पान्सरशिप से अपना हाथ पीछे खींचने का फैसला किया है। वीवो के इस फैसले के बाद आइपीएल ने टाटा को इसकी स्पान्सरशिप दे दी है। इसके बाद अब अगले सीजन से अब इंडियन प्रीमियर लीग टाटा आइपीएल के नाम से जानी जाएगी। चीन की मोबाइल कंपनी वीवो अब आइपीएल के साथ अपना जुड़ाव समाप्त करने के लिए तैयार है और उसकी जगह टाटा ने आइपीएल के शीर्षक प्रायोजक के रूप में इस स्मार्टफोन ब्रांड की जगह ले ली है। मंगलवार को आइपीएल गवर्निंग काउंसिल की बैठक के दौरान स्पान्सरशिप में बदलाव पर फैसला लिया गया।

इससे पहले भी वीवो ने साल 2020 में  भारत में चीन विरोधी भावना बढ़ने की वजह से आइपीएल स्पान्सरशिप के तौर पर अपना हाथ पीछे खींच लिया था। इसके बाद साल 2021 में फिर से वीवो ने मुख्य प्रायोजक के रूप में फिर से वापसी की थी। वहीं अब वीवो और आइपीएल का एसोसिएशन आइपीएल 2022 से ठीक पहले पूरी तरह से समाप्त होने के लिए तैयार है। VIVO और BCCI ने 2018 में आइपीएल के टाइटल स्पान्सरशिप के लिए 440 करोड़ रुपये का समझौता किया था। दोनों के बीच ये अनुबंध आइपीएल 2023 सीजन के बाद समाप्त होना था, लेकिन दोनों पक्ष समय से पहले अलग हो रहे हैं।

भारत की कंपनी टाटा पहली बार आइपीएल के साथ जुड़ने जा रही है और उनका टाइटल प्रायोजक होगा। आइपीएल का 15वां सीजन अब टाटा आइपीएल के नाम से जाना जाएगा। बीसीसीआइ के एक अधिकारी का कहना है कि वीवो ने आइपीएल के प्रायोजन डील से बाहर निकलने का अनुरोध किया था और गवर्निंग काउंसिल ने इसे मंजूरी दे दी है। अब बीसीसीआइ को टाइटल राइट्स के टाटा से भी वीवो जितना ही शुल्क मिलेगा। वहीं बीसीसीआइ देश में कोविड-19 मामलों की बढ़ती संख्या को देखते हुए आइपीएल 2022 के पूरे सीजन को महाराष्ट्र में बायो-बबल वातावरण में आयोजित करने की योजना बना रहा है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.