Logo
ब्रेकिंग
कर्तव्य पथ पर पहली बार मार्च पास्ट करेगी मिस्र सेना की टुकड़ी, परेड में दिखेगा बहुत कुछ नया भारतीय शेयर बाजार विदेशी निवशकों को लगा महंगा रिपब्लिक डे पर एयर इंडिया ने फ्लाइट्स टिकट पर दिया ऑफर छिंदवाड़ा में हिंदूवादी संगठनों ने पठान फिल्म के पोस्टर फाड़े कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय के बयान पर रविशंकर प्रसाद का फूटा गुस्सा मध्य प्रदेश के राज्यपाल भोपाल में और सीएम शिवराज जबलपुर में करेंगे ध्वजारोहण आप-भाजपा पार्षदों के हंगामे के बीच फिर टला मेयर चुनाव, सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित मुंबई: देशभक्ति से भरपूर फिल्म है 'पठान' फर्स्ट शो के बाद 300 शो बढ़ाए गए, अब तक की सबसे बड़ी रिलीज ... इंदौर में हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं पर FIR, पठान मूवी के विरोध में मुस्लिम संगठनों पर आपत्तिजनक ना... अब छिंदवाड़ा में पठान का विरोध, राष्ट्रीय हिंदू सेना ने किया पुतला दहन..जमकर की नारेबाजी

बस के आकार की तिजोरी करेगी गर्म होते मौसम के पैटर्न की रिकार्डिग

वाशिंगटन।  आस्ट्रेलिया (Australia) के एक सुदूरवर्ती इलाके में करीब-करीब स्कूल बस के आकार की स्टील की एक तिजोरी पृथ्वी के गर्म होते मौसम के पैटर्न को रिकार्ड करेगी। हम जो कहते और करते हैं, वह उसे भी सुनेगी। इसके निर्माताओं का कहना है कि यह एक संग्रह तैयार करेगी जो मानवता के गलत कदमों को एक साथ जोड़ने में अहम साबित हो सकता है।

तस्मानिया द्वीप पर विकसित होगा ‘ब्लैक बाक्स’ 

पृथ्वी का ‘ब्लैक बाक्स’ कही जा रही इस तिजोरी का निर्माण आस्ट्रेलिया के एक द्वीप तस्मानिया पर किया जाएगा। यह हवाई जहाज के फ्लाइट रिकार्डर की तरह काम करेगी जो दुर्घटनाग्रस्त होने से पहले विमान के अंतिम क्षणों को रिकार्ड करता है। हालांकि इसके निर्माताओं ने उम्मीद जताई कि इसे खोलना नहीं पड़ेगा। तीन इंच मोटाई के स्टील से बन रही 33 फीट लंबी इस तिजोरी के अगले साल के मध्य से पहले पूरा होने की उम्मीद नहीं है। इसके निर्माताओं का कहना है कि उन्होंने पहले से ही जानकारियां जुटाना शुरू कर दिया है।

पृथ्वी का यह ब्‍लैक बाक्स जलवायु परिवर्तन और अन्‍य मानवनिर्मित खतरों को रिकार्ड करेगा। साथ ही मानव सभ्‍यता के पतन की कहानी को भी दर्ज करेगा। 32 फीट की उंचाई वाले इस ब्‍लैक बाक्स का निर्माण कभी न टूटने वाली स्‍टील से किया जाएगा। इसमें जलवायु से तापमान, समुद्र जलस्‍तर, जलवायु में कार्बन डाइ आक्साइडकी मात्रा और कई अन्‍य आंकड़े जमा होंगे ताकि इस बात का दस्‍तावेजीकरण किया जा सके कि कैसे इंसानियत जलवायु आपदा को रोकने में असफल रही।

2022 के मध्य में इस ब्लैक बाक्स का निर्माण कार्य शुरू होने जा रहा है। इस प्रोजेक्ट को मार्केटिंग कंपनी क्‍लेमेंगर बीबीडीओ यूनिवर्सिटी आफ तस्‍मानिया की मदद से बना रही है। कंपनी का कहना है कि इसका मकसद यह है कि यदि धरती पर आने वाले वर्षों में मानव सभ्‍यता खत्‍म होती है जो लोग बचेंगे वे इसके जरिए जान सकेंगे कि क्‍या हुआ था।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.