दिल्ली में ओमीक्रोन के बढ़ते मामलों के बीच खुद को तीसरी लहर के लिए तैयार कर रहे हैं व्यापारी

कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप के धीरे-धीरे राष्ट्रीय राजधानी में पैर पसारने की पृष्ठभूमि में ग्राहकों की घटती संख्या से प्रभावित हो रहे व्यापारी महामारी की संभावित तीसरी लहर के लिए खुद को तैयार कर रहे हैं। दिल्ली में शुक्रवार को और 12 लोगों को ओमीक्रोन स्वरूप से संक्रमित होने की पुष्टि हुई। राष्ट्रीय राजधानी में अभी तक ओमीक्रोन के 22 मामले सामने आए हैं। अधिकारियों ने बताया कि जिन लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है उनमें से अधिकतर का टीकाकरण हो चुका है और उनमें बीमारी के लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं। चांदनी चौक व्यापार मंडल के सदस्य संजय भार्गव का कहना है कि अभी वे लोग प्रतीक्षा कर रहे हैं, हालांकि उन्होंने इलाके में पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाने का अनुरोध जरूर किया है।

उन्होंने बताया, ‘‘हमने प्रशासन से क्षेत्र में पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाने का मौखिक अनुरोध किया है ताकि कोविड-19 प्रोटोकॉल को हल्के में लेने वालों से उसका पालन कराया जा सके। सामान्य तौर पर रेहड़ी-पटरी वाले और भिखारी नियमों का पालन नहीं करते हैं।” ग्राहकों की संख्या में कमी को स्वीकार करते हुए उन्होंने कहा कि मार्केट एसोसिएशन जल्दी ही क्षेत्र के दुकानदारों को परिपत्र जारी करके उनसे कोविड प्रोटोकॉल लागू कराने को कहेगी। भार्गव ने कहा, ‘‘हम जल्दी ही अपने सभी व्यापारियों से कोविड प्रोटोकॉल लागू करने को कहेंगे। पिछले 10 दिनों में बाजार में ग्राहकों की संख्या में कमी आयी है। शहर में ओमीक्रोन के बढ़ते मामलों के कारण धंधा मंदा हुआ है।”

‘नेशनल दिल्ली ट्रेडर्स एसोसिएशन’ के अध्यक्ष अतुल भार्गव ने कहा कि वैसे तो कनॉट प्लेस (सीपी) में भीड़ है और अन्य जगह ऐसा कोई डर नहीं है, इसके बावजूद उन्होंने सभी व्यापारियों को परिपत्र जारी कर दिया है।” दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने बृहस्पतिवार को कहा था कि इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले कई अंतरराष्ट्रीय यात्रियों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। मंगलवार को उन्होंने कहा था कि कोरोना वायरस का ओमीक्रोन स्वरूप अभी तक समुदाय के स्तर पर नहीं फैला है और हालात अभी नियंत्रण में हैं। ओमीक्रोन स्वरूप से उत्पन्न खतरे के मद्देनजर दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने शुक्रवार की शाम एक आदेश जारी कर अस्पतालों से कहा कि वह सभी रिक्त पदों पर संविदा या अन्य आउट सोर्सिंग एजेंसियों की मदद से डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक, स्वच्छता और सुरक्षा सहित अन्य सभी अधिकारियों/कर्मचारियों की भर्ती करें और पहले से स्वीकृत पदों की संख्या से 25 प्रतिशत अतिरिक्त भर्तियां 31 मार्च से पहले सुनिश्चित करें।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ब्रेकिंग
जहानाबाद दोहरे हत्याकांड में सात आरोपियों को सश्रम आजीवन कारावास डोनियर ग्रुप ने लॉन्च किया ‘नियो स्ट्रेच # फ़्रीडम टू मूव’: एक ग्रैंड म्यूज़िकल जिसमें दिखेंगे टाइगर श... छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने हेतु मनी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राबड़ी, मीसा, हेमा यादव के खिलाफ ईडी के पास पुख्ता सबूत, कोई बच नहीं सकता “समान नागरिक संहिता” उत्तराखंड में लागू - अब देश में लागू होने की बारी नगरनौसा हाई स्कूल के मैदान में प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को दिलाया पांच‌ प्रण बिहार में समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को नहीं मिल रहा लाभ : राधिका जिला पदाधिकारी ने रोटी बनाने की मशीन एवं अन्य सामग्री उपलब्ध कराया कटिहार में आरपीएफ ने सुरक्षा सम्मेलन किया आयोजित -आरपीएफ अपराध नियंत्रण में जागरूक करने के प्रयास सफ...