Logo
ब्रेकिंग
चीकू की खेती से होगी 5 लाख रुपये तक की कमाई केजरीवाल ने कांग्रेस को हराने के लिए शराब घोटाला किया : अजय माकन बीएमसी बजट 2023-24 - मुंबई के इन पांच जगहो पर लगेंगे एयर प्यूरीफायर ! उद्योग में तकनीकी उन्नयन के लिए एनर्जी बॉन्ड जारी करने पर विचार कर रहा पाकिस्तान मा0 अध्यक्ष जिला पंचायत ने महामाया राजकीय महाविद्यालय भिट्टी में ’’वार्षिक क्रीडा प्रतियोगिता’’ का क... भोपाल-इंदौर में लोकसभा चुनाव से पहले दौड़ेगी भोपाल मेट्रो  छावला गैंगरेप मामले में बरी हुआ शख्स और उसका दोस्त हत्या के आरोप में गिरफ्तार व्यक्ति को जमीन पर गिराकर मारने का VIDEO....दो दिन पूर्व का बताया जा रहा, शराब के नशे में था पीड़ित जल्द शुरू होने वाला है दीघा रेलवे स्टेशन, सेंट्रल रेलवे ने पूरी की तैयारी हिंदुओं के हाथ से अगरबत्ती छुड़ाकर मोमबत्ती थमाने के चल रहे प्रयास

तीन साल पहले क्यों क्रिकेट से रिटायरमेंट लेने की सोच रहे थे आर अश्विन, किया बड़ा खुलासा

नई दिल्ली। भारतीय टीम के आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने एक बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने बताया है कि साल 2018 में उनका मन हुआ था कि वे क्रिकेट की दुनिया को अलविदा कह दें। अपने संन्यास को लेकर उस दौरान आर अश्विन ने गंभीरता से सोचा था, क्योंकि इंग्लैंड सीरीज के बाद उनको टीम में बैक नहीं किया गया था। अश्विन सिर्फ गेंद से ही नहीं, बल्कि बल्ले से भी प्रभावी रहे हैं।

अश्विन ने कहा कि तीन साल पहले एक समय था जब वह सिर्फ छह गेंद फेंककर थकान महसूस करते थे। इस अनुभवी आफ स्पिनर ने ये भी बताया कि कैसे उन्हें एक ही लाइन लेंथ पर गेंदबाजी करने के लिए अपनी तकनीक को बदलना पड़ा। क्रिकइंफो पर अश्विन ने कहा, “2018 और 2020 के बीच, मैंने विभिन्न बिंदुओं पर क्रिकेट छोड़ने पर विचार किया। मैंने सोचा कि मैंने बहुत प्रयास किया है, लेकिन यह नहीं हो रहा है।”

उन्होंने आगे बताया, “मैंने जितना कठिन प्रयास किया, उतना ही दूर महसूस किया। विशेष रूप से एथलेटिक प्यूबल्जिया (स्पोर्ट्स हर्निया) और पेटेलर टेंडोनाइटिस (घुटने की चोट) के साथ – मैं छह गेंदें फेंकता था और फिर मैं सांस के लिए हांफता था। और हर जगह दर्द होता था। इसलिए आपको सब कुछ बदलने की आवश्यकता थी।” अश्विन ने ये भी बताया कि उनकी पत्नी और पिता ने उनका काफी साथ दिया और प्रेरित किया कि मैं फिर से व्हाइट बाल क्रिकेट खेलूंगा।

उन्होंने बताया, “जब घुटने का दर्द तेज होता, तो अगली गेंद पर मैं शायद कम कूदता। जब मैं कम कूदता था, तो स्पष्ट रूप से बल को कोर और पीठ और कंधों के माध्यम से उत्पन्न करने की आवश्यकता होती है, इसलिए प्यूबल्जिया परेशान करती है। इसलिए तीसरी गेंद पर मैं अतिरिक्त साइड आन होकर हिप्स का इस्तेमाल करने की कोशिश करता। जब तक मैं छह गेंद फेंकता तो मैं ऐसा महसूस करता कि मुझे यहां एक ब्रेक की जरूरत है।”

अश्विन ने संन्यास को लेकर कहा, “मैंने कई कारणों से रिटायरमेंट के बारे में सोचा। मुझे लगा कि लोग मेरी चोटों के प्रति पर्याप्त संवेदनशील नहीं थे। मुझे लगा कि बहुत सारे खिलाड़ियों का समर्थन किया गया है, मेरा क्यों नहीं? मैंने भी कुछ कम प्रदर्शन नहीं किया है। मैंने टीम के लिए बहुत सारे मैच जीते हैं और मैं समर्थन महसूस नहीं कर रहा हूं। मैं आमतौर पर मदद की तलाश नहीं करता कि किसी को मेरा समर्थन करने की जरूरत है या किसी को मुझे कुशन देने या मुझे सहानुभूति देने की जरूरत है।”

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.