भारतीय टीम जब चाहे तब साउथ अफ्रीका से मिल सकती है स्वदेश लौटने की इजाजत

नई दिल्ली। भारतीय टीम इस समय साउथ अफ्रीका के दौरे पर है, जहां दोनों देशों के बीच 26 दिसंबर से तीन मैचों की टेस्ट सीरीज शुरू हो रही है और इसके बाद वनडे सीरीज खेली जाएगी। साउथ अफ्रीका में इस सीरीज का आयोजन होना है, जहां कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रोन देखने को मिला है। इस समय साउथ अफ्रीका में हर दिन करीब 19 हजार कोरोना के केस सामने आ रहे हैं। ऐसे में साउथ अफ्रीका क्रिकेट के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने स्पष्ट कर दिया है कि अगर साउथ अफ्रीका में हालात खराब होते हैं तो फिर भारत को स्वदेश लौटने की अनुमति होगी, फिर चाहे देश की सीमाएं ही बंद क्यों न हों।

भारत के साउथ अफ्रीका दौरे के लिए क्रिकेट साउथ अफ्रीका ने हर चीज पर ध्यान दिया है। भारतीय टीम के लिए CSA ने पूरा रिसार्ट बुक किया हुआ है। यहां तक कि बाहर का खाना भी बबल के अंदर नहीं जाएगा और लगातार खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ के कोविड-19 टेस्ट हो रहे हैं। इतना ही नहीं, साउथ अफ्रीका क्रिकेट ने टेस्ट और वनडे सीरीज के लिए दर्शकों को भी स्टेडियम में प्रवेश की अनुमति नहीं दी है। इतनी सावधानियों के बावजूद अगर भारतीय टीम की स्वदेश लौटने की होती है तो साउथ अफ्रीका की सरकार इसकी अनुमति देगी।

सीएसए के मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डॉक्टर शुएब मांजरा ने आश्वासन दिया कि सभी आवश्यक सावधानी बरती गई है कि कोई कोविड मामला सामने न आए। न्यूज 24 के मुताबिक, सीएसके के चिकित्सा अधिकारी ने कहा, “यदि आपको घर जाने की आवश्यकता है और सीमाएं बंद हैं, तो भी सरकार ने गारंटी दी है कि वे खिलाड़ियों और टीम को भारत वापस जाने की अनुमति देंगे। मुझे लगता है कि हमने जो भी उपाय किए हैं, वह यह सुनिश्चित करने के लिए काफी हैं कि भारतीय टीम यहां सुरक्षित है। हालांकि,उनके लिए किसी भी बिंदु पर घर जाने के लिए रास्ता खुला है।”

उन्होंने आगे कहा, “हम नियमित रूप से सीएसए अधिकारियों और दक्षिण अफ्रीका में भारतीय टीम प्रबंधन के संपर्क में हैं। टीम बहुत आराम से रह रही है। जैसा कि अब घोषणा हो गई है कि सीरीज बंद दरवाजों के पीछे होगी तो किसी भी प्रकार का खतरा और कम हो जाता है। सीएसए ने भी आश्वासन दिया है कि कुछ भी अप्रिय होने पर भारतीय टीम को तुरंत उड़ान भरने की अनुमति दी जाएगी।”

मांजरा ने ये भी स्पष्ट कर दिया है कि भारतीय टीम या फिर उनके मैनेजमेंट का कोई सदस्य कोरोना संक्रमित पाया जाता है तो अस्तपाल में उसके लिए बेड की व्यवस्था है। वहीं, करीबी संपर्क में आने वाले व्यक्तियों को कोरोना टेस्ट में नेगेटिव आने के बाद आइसोलेशन की आवश्यकता नहीं होगी। सीएसके इस सीरीज के सफल आयोजन के लिए हर बात पर ध्यान दे रही है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ब्रेकिंग
जहानाबाद दोहरे हत्याकांड में सात आरोपियों को सश्रम आजीवन कारावास डोनियर ग्रुप ने लॉन्च किया ‘नियो स्ट्रेच # फ़्रीडम टू मूव’: एक ग्रैंड म्यूज़िकल जिसमें दिखेंगे टाइगर श... छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने हेतु मनी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राबड़ी, मीसा, हेमा यादव के खिलाफ ईडी के पास पुख्ता सबूत, कोई बच नहीं सकता “समान नागरिक संहिता” उत्तराखंड में लागू - अब देश में लागू होने की बारी नगरनौसा हाई स्कूल के मैदान में प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को दिलाया पांच‌ प्रण बिहार में समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को नहीं मिल रहा लाभ : राधिका जिला पदाधिकारी ने रोटी बनाने की मशीन एवं अन्य सामग्री उपलब्ध कराया कटिहार में आरपीएफ ने सुरक्षा सम्मेलन किया आयोजित -आरपीएफ अपराध नियंत्रण में जागरूक करने के प्रयास सफ...