महाराष्ट्र में ओमिक्रोन के सबसे ज्यादा मामले, जानें क्या है आपके राज्य का हाल

नई दिल्ली। देश में ओमिक्रोन के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। देशभर में ओमिक्रोन मरीजों की संख्या अब 650 के पार हो गई है। सोमवार को भी कुछ राज्यों में ओमिक्रोन के नए मामले सामने आए हैं। इसके अलावा ओमिक्रोन अब नार्थ-ईस्ट भी पहुंच गया है। सोमवार को मणिपुर में इसका पहला केस सामने आया है। साथ ही गोवा में भी ओमिक्रोन से 8 साल का बच्चा संक्रमित पाया गया है। ओमिक्रोन के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने राज्यों को सतर्कता बरतने की सलाह दी है।

653 हुए कुल मामले

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देशभर में ओमिक्रोन के कुल मरीजों की संख्या अब 653 हो गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, संक्रमितों में से 186 मरीज ठीक हो गए हैं।

महाराष्ट्र में सबसे अधिक मरीज

ओमिक्रोन के सबसे ज्यादा मरीज महाराष्ट्र में हैं। महाराष्ट्र में संक्रमितों की संख्या अब बढ़कर 167 हो गई है। वही, इसके बाद दिल्ली में सबसे ज्यादा 165 मरीज हैं।

किस राज्य में कितने मामले?

महाराष्ट्र- 167

दिल्ली- 165

केरल- 57

तेलंगाना- 55

गुजरात- 49

राजस्थान- 46

तमिलनाडु- 34

कर्नाटक- 31

मध्य प्रदेश- 9

ओडिशा – 8

आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 6-6

हरियाणा और उत्तराखंड में 4-4

चंडीगढ़ और जम्मू-कश्मीर में 3-3

यूपी- 2

हिमाचल प्रदेश, लद्दाख, मणिपुर और गोवा में 1-1 मामले हैं।

24 घंटे में कोरोना के 6,358 मामले

देश में ओमिक्रोन के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन कोरोना संक्रमितों की संख्या में उतार-चढ़ाव जारी है। बीते 24 घंटे में कोरोना के 6,358 नए मामले सामने आए हैं। हालांकि, इस दौरान ठीक होने वाले मरीजों की संख्या संक्रमितों के मुकाबले ज्यादा रही। बीते 24 घंटे में कोरोना के 6,450 ठीक हुए हैं। इसके साथ ही देश में कुल सक्रिय मामले 75,456 हो गए हैं जबकि कुल रिकवरी दर 98.40% हुआ है।

केंद्र सरकार की राज्यों को सलाह

उधर, ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोरोना संबंधी मौजूदा दिशा-निर्देशों को 31 जनवरी तक बढ़ा दिया है। केंद्र ने राज्यों को सतर्कता बरतने की सलाह दी है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखा है। कोरोना, खासकर ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों को देखते हुए सभी को अत्यधिक सतर्कता बरतने की सलाह दी है। उन्होंने आवश्यकता के मुताबिक स्थानीय स्तर पर पाबंदियां लगाने और त्योहारों के दौरान भीड़ को नियंत्रित करने को भी कहा है। पत्र में कोरोना संबंधी दिशानिर्देशों को अगले साल 31 जनवरी तक बढ़ाने की जानकारी भी दी है। संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए जांच, पहचान, उपचार, टीकाकरण और कोरोना से बचाव के नियमों के पालन संबंधी पांच उपायों के अनुपालन पर ध्यान केंद्रित करने को कहा है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ब्रेकिंग
जहानाबाद दोहरे हत्याकांड में सात आरोपियों को सश्रम आजीवन कारावास डोनियर ग्रुप ने लॉन्च किया ‘नियो स्ट्रेच # फ़्रीडम टू मूव’: एक ग्रैंड म्यूज़िकल जिसमें दिखेंगे टाइगर श... छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने हेतु मनी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राबड़ी, मीसा, हेमा यादव के खिलाफ ईडी के पास पुख्ता सबूत, कोई बच नहीं सकता “समान नागरिक संहिता” उत्तराखंड में लागू - अब देश में लागू होने की बारी नगरनौसा हाई स्कूल के मैदान में प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को दिलाया पांच‌ प्रण बिहार में समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को नहीं मिल रहा लाभ : राधिका जिला पदाधिकारी ने रोटी बनाने की मशीन एवं अन्य सामग्री उपलब्ध कराया कटिहार में आरपीएफ ने सुरक्षा सम्मेलन किया आयोजित -आरपीएफ अपराध नियंत्रण में जागरूक करने के प्रयास सफ...