Logo
ब्रेकिंग
अमित शाह कल करेंगे चुनावी राज्य कर्नाटक का दौरा अपनी छोड़ सारे जहां की चिंता कर भोपाल के विद्यार्थी ने जीता पीएम मोदी का मन दिल्ली में न्यूनतम तापमान 6.1 डिग्री सेल्सियस, वायु गुणवत्ता ‘खराब' श्रेणी में बजट से पूर्व भारत को US फार्मा उद्योग की सलाह- दवा क्षेत्र के लिए बनाए अनुसंधान एवं विकास नीति Corona Update: भारत में दम तोड़ रहा कोरोना, 24 घंटे में 100 से भी कम नए केस सड़क का खंबा नहीं होता तो अंधगति से आ रहे ट्रक थाना मोबाइल को ठोकता हुआ अंदर होता, cctv में दिखा कैसे... MP: मुरैना में बड़ा हादसा, वायुसेना का सुखोई-30 और मिराज हुए क्रैश सूरत के उधना इलाके में कार शोरूम में लगी भीषण आग रूठों को मनाने के लिए कांग्रेस चलाएगी घर वापसी अभियान ‘मूड ऑफ दि नेशन सर्वे’ में बजा CM योगी का डंका, 39.1 फीसदी लोगों ने माना बेस्ट परफॉर्मिंग चीफ मिनिस्...

गांधी प्रतिमा के सामने छत्तीसगढ़ CM का विरोध, संत कालीचरण के बचाव में सौंपा ज्ञापन

इंदौर: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर विवादित बयान देने वाले महाराष्ट्र के संत कालीचरण के बचाव में हिंदू संगठन सड़क पर उतर गया है। इंदौर में रविवार को गौरक्षा संगठन और बजरंग सेना के कार्यकर्ताओं ने कालीचरण महाराज के खिलाफ छत्तीसगढ़ पुलिस और सरकार द्वारा की गई कार्रवाई का विरोध किया। इंदौर के रीगल स्कवेयर स्थित गांधी प्रतिमा के सामने हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने जमकर विरोध दर्ज कराया और छत्तीसगढ़ सरकार और सीएम भूपेश बघेल के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद कार्यकर्ताओ ने मध्यप्रदेश के गृहमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर की कालीचरण महाराज को जल्द रिहा करने की मांग की।

बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं के हुजूम ने इंदौर में ये तो साफ कर दिया है कि विरोध के स्वर आगे भी जारी रहेंगे। दरअसल, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर विवादित टिप्पणी करने वाले संत कालीचरण को 13 जनवरी तक कि न्यायिक हिरासत में भेजा गया है और ऐसे में उनके बचाव में उतरे हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं द्वारा छत्तीसगढ़ सरकार का विरोध किया जा रहा है। विरोध के दौरान सड़क पर ही कार्यकर्ताओं ने हनुमान चालीसा भी पढ़ी और इसके बाद कमिश्नर ऑफ पुलिस कार्यालय पर जाकर ज्ञापन सौंपा। कार्यकर्ताओ के मुताबिक छत्तीसगढ़ सरकार ने गलत तरीके से संत कालीचरण को सजा दी है। गौरक्षा बजरंग सेना के प्रदेश अध्यक्ष विशाल ठाकुर ने बताया कि यदि जल्द ही छत्तीसगढ़ सरकार ने कालीचरण महाराज को नहीं छोड़ा तो हर वार्ड में छत्तीसगढ़ के सीएम का पुतला जलाया जाएगा।

बता दें कि विवादित बयान को लेकर चर्चा में आये संत कालीचरण का बचाव इंदौर में हर रोज हिंदूवादी संगठनों द्वारा किया जा रहा है और माना जा रहा है कि आने वाले समय मे ये विरोध और भी उग्र हो सकता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.