PM की सुरक्षा में गलती या साजिश? मोदी को घेरने वाला एक साल पुराना यह एनिमेटेड VIDEO कर रहा लोगों को हैरान

उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पिछले दिनों पंजाब दौरे से संबंधित सभी रिकॉर्ड सुरक्षित और संरक्षित करने का शुक्रवार को निर्देश दिया। मुख्य न्यायाधीश एन. वी. रमना और न्यायमूर्ति सूर्य कांत और न्यायमूर्ति हेमा कोहली की पीठ ने रिकॉर्ड सुरक्षित रखने के निर्देश के साथ ही मोदी की पिछले दिनों पंजाब यात्रा के दौरान सुरक्षा में कथित चूक मामले में केंद्र और पंजाब द्वारा गठित दो अलग-अलग कमेटियों को याचिका पर अगली सुनवाई सोमवार तक के लिए जांच नहीं करने का आदेश दिया है। वहीं बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने इस घटना को लेकर एक वीडियो शेयर किया है जोकि काफी हैरान करने वाला है।

इस वीडियो को ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा है, “YouTube पर एक साल पहले ये एनिमेटेड वीडियो खालिस्तानियों द्वारा डाला गया। इसमें मोदी जी को फ्लाईओवर के ऊपर नकली किसानों द्वारा रोक कर, घेर कर मारने की कोशिश की जाती है। पीएम मोदी को घेरने वाला एक साल पुराना यह एनिमेटेड वीडियो काफी हैरान करने वाला है। जैसा इस वीडियो में है। हूबहू वैसे ही पंजाब में करने की कोशिश की गई। दिल्ली बीजेपी के फायर ब्रैंड नेता कपिल मिश्रा ने इस एनिमेटेड वीडियो को ट्वीट करके पूर्वनियोजित साजिश की ओर इशारा किया है। इसी वीडियो को अब तक 36,887 बार देखा जा चुका था। 776 लोगों ने वीडियो पर कॉमेंट भी किया है। कहा जा रहा है कि 5 जनवरी को यह एनिमिटेड वीडियो खूब चलाया गया। उसी दिन किसानों ने एक झुंड ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले को बठिंडा के एक फ्लाइओवर पर रोक लिया था।

सुरक्षा चूक के कारण मोदी की पंजाब यात्रा हुई थी रद्द 
गंभीर सुरक्षा चूक के कारण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पंजाब यात्रा बुधवार को बीच में ही रद्द कर दी गयी और उनकी फिरोजपुर की जनसभा एवं अन्य कार्यक्रम भी रद्द कर दिये गये। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से इस मामले में विस्तृत रिपोटर् मांगी है और इसकी जिम्मेदारी तय कर सख्त कारर्वाई करने का संबंधितों को निर्देश दिया है। गृह मंत्रालय ने घटना की जानकारी देते हुए एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री हुसैनीवाला में शहीद स्मारक के लिए भठिंडा से सड़क मार्ग से जा रहे थे। वहां से करीब 30 किलोमीटर पहले एक फ्लाईओवर पर कुछ प्रदर्शनकारियों ने सड़क को जाम कर रखा था। गृह मंत्रालय के अनुसार मोदी का काफिला वहां फ्लाईओवर पर करीब 15-20 मिनट फंसा रहा। मंत्रालय ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री की सुरक्षा में यह गंभीर चूक है।” इस घटना के बाद प्रधानमंत्री के काफिले को वापस भठिंडा हवाईअड्डे की ओर ले जाने फैसला किया गया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ब्रेकिंग
जहानाबाद दोहरे हत्याकांड में सात आरोपियों को सश्रम आजीवन कारावास डोनियर ग्रुप ने लॉन्च किया ‘नियो स्ट्रेच # फ़्रीडम टू मूव’: एक ग्रैंड म्यूज़िकल जिसमें दिखेंगे टाइगर श... छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने हेतु मनी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राबड़ी, मीसा, हेमा यादव के खिलाफ ईडी के पास पुख्ता सबूत, कोई बच नहीं सकता “समान नागरिक संहिता” उत्तराखंड में लागू - अब देश में लागू होने की बारी नगरनौसा हाई स्कूल के मैदान में प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को दिलाया पांच‌ प्रण बिहार में समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को नहीं मिल रहा लाभ : राधिका जिला पदाधिकारी ने रोटी बनाने की मशीन एवं अन्य सामग्री उपलब्ध कराया कटिहार में आरपीएफ ने सुरक्षा सम्मेलन किया आयोजित -आरपीएफ अपराध नियंत्रण में जागरूक करने के प्रयास सफ...