Logo
ब्रेकिंग
चीकू की खेती से होगी 5 लाख रुपये तक की कमाई केजरीवाल ने कांग्रेस को हराने के लिए शराब घोटाला किया : अजय माकन बीएमसी बजट 2023-24 - मुंबई के इन पांच जगहो पर लगेंगे एयर प्यूरीफायर ! उद्योग में तकनीकी उन्नयन के लिए एनर्जी बॉन्ड जारी करने पर विचार कर रहा पाकिस्तान मा0 अध्यक्ष जिला पंचायत ने महामाया राजकीय महाविद्यालय भिट्टी में ’’वार्षिक क्रीडा प्रतियोगिता’’ का क... भोपाल-इंदौर में लोकसभा चुनाव से पहले दौड़ेगी भोपाल मेट्रो  छावला गैंगरेप मामले में बरी हुआ शख्स और उसका दोस्त हत्या के आरोप में गिरफ्तार व्यक्ति को जमीन पर गिराकर मारने का VIDEO....दो दिन पूर्व का बताया जा रहा, शराब के नशे में था पीड़ित जल्द शुरू होने वाला है दीघा रेलवे स्टेशन, सेंट्रल रेलवे ने पूरी की तैयारी हिंदुओं के हाथ से अगरबत्ती छुड़ाकर मोमबत्ती थमाने के चल रहे प्रयास

OMG! प्रिटिंग प्रेस से छापे नकली नोट, अब तक मार्केट में आ चुके 17 लाख जाली नोट

गाजियाबाद: अगर आप दिल्ली एनसीआर में रहते हैं और किसी दुकान से आपको 100 से लेकर 2000 तक का नोट दिया गया है तो सावधान हो जाएं। वह नोट नकली भी हो सकता है। जी हां गाजियाबाद पुलिस ने 7 ऐसे आरोपियों को गिरफ्तार किया है जो नकली नोट छपते थे। इनके काम करने का तरीका कॉर्पोरेट को भी मात दे दे।

आरोपियों ने काम इतनी सफाई से किया है कि उस प्रेस एजेंसी को भी फेल कर दे जो इंडियन करेंसी छापती है। प्रिंटर से छपे नोट को देख कर हर कोई धोखा खा सकता है, लेकिन हकीकत ये है कि बिल्कुल असली से दिखने वाले ये नोट जाली हैं।
PunjabKesari
यह नोट गाजियाबाद में छप रहे थे जिनको पुलिस ने बरामद किया है। साथ ही पुलिस ने 7 लोगों को भी गिरफ्तार किया है। जिसमें इस गैंग का सरगना आजाद और उसके साथी आलम, रहबर, फुरकान, अब्बासी ,यूनुस, सोनी और अमन है।
PunjabKesari
पुलिस की दी जानकारी के मुताबिक इनको काम करते हुए 8 महीने हो गए थे और यह अब तक 17 लाख के जाली नोट यह छाप चुके थे।
PunjabKesari
इनका काम बिल्कुल कॉर्पोरेट स्टाइल में होता था कोई नोट छपता था तो कोई उसमें सिक्योरिटी मेजर लगाता था तो किसी का काम आगे सप्लाई करने का था।
PunjabKesari
इस बारे में एएसपी गाजियाबाद आकाश पटेल ने बताया कि यह लोग असली हजार रुपए के बदले में तिगुना जाली पैसा अपने वेंडर्स को दिया करते थे। इनके कब्जे से पुलिस ने 6 लाख 59 हजार के नकली नोट बरामद किए है। हालांकि पुलिस अभी इस बात की भी जांच कर रही है की कही इनके तार किसी विदेशी संगठन से तो नहीं जुड़े हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.