Logo
ब्रेकिंग
असम सरकार बोडोलैंड प्रादेशिक क्षेत्र का करेगी विस्तार PM Modi राजस्थान का करेंगे चौथा दौरा बाइडेन प्रशासन का दावा- अमेरिका के लिए भारत महत्वपूर्ण साझेदार गोवा में बिना इजाजत पर्यटकों के साथ नहीं ले पाएंगे सेल्फी? बाइडेन प्रशासन का दावा- अमेरिका के लिए भारत महत्वपूर्ण साझेदार बड़वानी जिले में हादसा, वाहन को धक्‍का लगा रहे लोगों को ट्रक ने रौंदा, तीन लोगों की मौत पठान फ़िल्म के विरोध के दौरान आपत्तिजनक नारेबाजी करने वाले हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं को भेजा जेल मासूम बच्चों और पत्नी की हत्या के आरोपित पति व दोस्त को भेजा जेल 'भारत जोड़ो यात्रा' में शामिल हुईं PDP चीफ महबूबा मुफ्ती, हाफ जैकेट व टोपी पहने दिखे राहुल गांधी भोपाल के दीपेश और रितिका ने पूछा प्रधानमंत्री से सवाल, मिला यह जवाब

छत्तीसगढ़ में 10 हजार करोड़ के दवा बाजार पर रिलायंस और टाटा कंपनी की नजर

रायपुर। प्रदेश के सालाना 10 हजार करोड़ से अधिक के दवा कारोबार पर अब रिलायंस और टाटा जैसी कंपनियों की नजर है। इन कंपनियों द्वारा दवा उपभोक्ताओं के लिए राज्य के सभी जिलों में जगह-जगह मेडिकल दुकान खोलने की योजना है। रिलायंस कंपनी द्वारा राजधानी में करीब 12 मेडिकल स्टोर के माध्यम से इसकी शुरुआत की जा चुकी है। वहीं टाटा कंपनी भी दवा दुकानें जल्द ही खोलने की तैयारी में है।

इन सबके बीच राज्य के थोक दवा व्यापारियों की चिंताएं बढ़ गई है। इसका कारण दवा कंपनियों द्वारा कारपोरेट हाउस और थोक दवा व्यापारियों के लिए दवाओं की अलग-अलग कीमत है। दवा कंपनियां कारपोरेट हाउस या बड़ी कंपनियों को कम कीमत पर दवाएं उपलब्ध करा रही हैं, इससे बड़ी कंपनियां बाजार में भी कम कीमत पर दवाएं दे रही हैं, जबकि थोक दवा व्यापारियों को वही दवाएं अधिक कीमत पर दी जाती हैं।

नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइजिंग अथारिटी के अंतर्गत नियंत्रित मूल्य की दवाओं पर थोक दवा व्यापारियों को आठ फीसद व चिल्हर दवा व्यापारियों को 16 फीसद लाभ का प्रविधान है। रायपुर दवा संघ के सचिव लोकश साहू ने बताया कि दवा कंपनियों द्वारा कारपोरेट हाउस व दवा व्यापारियों के लिए अलग-अलग खरीदी मूल्य और अंतर को लेकर राज्य के व्यापारियों ने राष्ट्रीय स्तर पर कंपनी व दवा संघ के समक्ष अपनी समस्याओं को रखा है। बता दें कि राज्य में 3,000 से अधिक मेडिकल दुकानें हैं। बड़ी कंपनियों द्वारा दवा बाजार में उतरने पर यहां अधिक दवा दुकानें खुलेंगी।

दवा कंपनियों से सस्ती दवाएं मिलती हैं

राज्य में बड़ी कंपनियां मेडिकल दुकानों के माध्यम से दवा बाजार में उतर रही हैं। दवा कंपनियों द्वारा इन्हें सस्ती दर पर दवाएं मिलने से ये कम मार्जिन में दवां विक्रय करती हैं, जबकि दवा निर्माता कंपनियां हमें अधिक कीमत पर दवाएं उपलब्ध कराती हैं। राष्ट्रीय स्तर पर हमने इस समस्या को लेकर दवा कंपनियों व दवा संघ से शिकायत की है।

-विनय कृपलानी, अध्यक्ष, रायपुर दवा संघ

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.