Logo
ब्रेकिंग
573 मीटर ऊंची पहाड़ी पर रोकी पेड़ों की कटाई, अब इस पहाड़ी पर हरे-भरे हैं डेढ़ लाख से ज्यादा पेड़ नाराज मुख्यमंत्री की लगातार 6 पोस्ट, ईडी-आईटी वाले अफसरों को मुर्गा बनाकर पीट रहे हैं, अब शिकायत मिल... रिफ्लेक्टर जैकेट, एल्कोमीटर होने के बाद भी रात में ट्रैफिक पुलिस सड़कों से हो जाती है गायब दिन का तापमान जहां 28 डिग्री, न्यूनतम 8.1 डिग्री पर पहुंचा, सर्द उत्तरी हवाओं से दिन में भी बढ़ी ठिठु... अलीगढ़ में जिला बॉडी बिल्डिंग एसोसिएशन ने कराई प्रतियोगिता, प्रदेश के 200 से ज्यादा युवा हुए शामिल मध्यप्रदेश के अलग-अलग क्षेत्रों से गुजर रही यात्रा, भिलाई नगर विधायक निभा रहे अहम भूमिका 14.5 करोड़ की हेरोइन बरामद, आरोपियों से 20 हजार ड्रग मनी और 2 स्कूटर भी मिले  भारत जोड़ो यात्रा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगने पर कांग्रेस नेताओं पर केस दर्ज  ट्रक से टकराए बाइक सवार बुजुर्ग; सिंगोडी बाइपास पर युवक की भी मौत स्टूडेंट्स के उज्ज्वल भविष्य के लिए लिंग्याज की टीम करियर काउंसलिंग कर दिखा रही राह

कुवैतवासी भारतीय प्रवासी ने दुबई में एईडी 2 करोड़ महजूज शीर्ष पुरस्कार जीता

दुबई| एक भारतीय मैकेनिकल इंजीनियर ने 102वें महजूज सुपर सैटरडे में एईडी 2 करोड़ का जीवन बदल देने वाला पुरस्कार जीता। कुवैत में रहने वाले विजेता महजूज का 30वां करोड़पति बन गए।

तीन बच्चों के पिता 48 वर्षीय दलीप केवल एईडी 100,000 के गारंटीकृत रैफल ड्रॉ जीतने के एकमात्र इरादे से नियमित रूप से महजूज में भाग लेते रहे हैं। यहां तक कि उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि वह इसके बदले अपने साथ एईडी 2 करोड़ ले जाएंगे। दलीप ने छह महीने लगातार गारंटीशुदा रैफल ड्रॉ जीतने की कोशिश की, लेकिन इसके बजाय शीर्ष पुरस्कार जीता।

दलीप पुरस्कार राशि से अपने परिवार – अपनी पत्नी (25), 23 और 20 साल उम्र के तीन बच्चों के साथ-साथ अपने बूढ़े माता-पिता को जीवन की सभी संभव सुविधाएं देने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं।

इस्पात उद्योग में काम करने वाले इंजीनियर कहते हैं, “अगर मैं सौ साल भी काम करता तो भी मैं इतनी बचत नहीं कर सकता था।”

दलीप कहते हैं, “उस यादगार रात में जब मुझे महजूज से ईमेल मिला तो मेरे रोंगटे खड़े हो गए। सोने के लिए तैयार होने के दौरान मुझे महजूज से एक ईमेल मिला, लेकिन मैंने मान लिया कि मैंने या तो एईडी 350 का तीसरा पुरस्कार या एईडी 100,000 का रैफल ड्रॉ पुरस्कार जीता है। इस पैसे की मदद से मैं और मेरा परिवार अपनी सभी आकांक्षाओं को पूरा करने में सक्षम होंगे।”

दलीप की सबसे बड़ी इच्छा रिटायर होकर भविष्य में भारत में एक अत्याधुनिक घर बनाने की है। लेकिन उनका पहला और तत्काल अनुग्रह, अपने परिवार के साथ दुनियाभर (यूरोप, अमेरिका और खाड़ी देशों) की यात्रा करने के अलावा नवीनतम आईफोन खरीदना होगा। वह यूएई में अपने परिवार के साथ निवेश करने और बसने का भी इरादा रखते हैं, क्योंकि उनका मानना है कि जब वह यूएई के एक देसी ब्रांड के साथ भाग ले रहे थे तो उनका जीवन बदल गया।

ईडब्ल्यूआईएनजीएस के सीईओ और महाजूज के प्रबंध संचालक फरीद सामजी के अनुसार, “102वें सुपर सैटरडे ड्रॉ में हमने देखा कि भाग्य का खुलना महजूज के लोकाचार का प्रतीक है। यह रातों-रात लोगों के जीवन को हमेशा के लिए बदल देता है।”

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.