Logo
ब्रेकिंग
शहडोल मे पेड़ काटते वक्त पलटी जेसीबी, बाल-बाल बचे लोग अर्चना गौतम और निमृत के बीच जमकर हुई नोक-झोंक व्हाट्सएप ने दिसंबर में भारत में 36 लाख से अधिक आपत्तिजनक अकाउंट्स पर लगाया प्रतिबंध मुख्यमंत्री ने 'समाधान यात्रा' के क्रम में सुपौल जिले में विकास योजनाओं का लिया जायजा Budget 2023: बजट में बुजुर्गों के लिए बड़ा ऐलान, यह योजना बनेगी सीनियर सिटीजन्स का सहारा केन्द्रीय बजट में दूरदृष्टि का आभाव : सीएम यह बजट मोदी सरकार के आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को और गति देगा: अमित शाह 12 घंटों के अंदर कई जिलों में हो सकती है तेज बारिश, ओले गिरने के भी आसार यूएन प्रमुख ने पाकिस्तान के पेशावर मस्जिद में आत्मघाती हमले की निंदा की आम बजट से है बहुत उम्मीदें

CM योगी ने आशा बहुओं को बांटे मोबाइल फोन, कहा- कोविड टीके में दिया महत्वपूर्ण योगदान

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आशा बहुओं बड़ी सौगात दी है। उन्होंने आज 80,000 मोबाइल फोन वितरण अभियान का शुभारंभ किया।  सीएम ने आशा बहुओं की तारीफ करते हुए कहा कि कोरोना महामारी में टीकाकरण की महत्वपूर्ण भूमिका आशा बहुओं ने निभाई है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश आज  20 करोड़ कोविड टीके का सुरक्षा कवच देने का अहम पड़ाव पार कर लिया है। इस दौरान उन्होंने कहा कि हमने आशा बहुओं की समस्याओं को दूर करने का काम किया है। 80,000 मोबाइल का वितरण से उन्हें काम करने सुविधा मिलेगी। वहीं सीएम योगी ने 500 रुपए अतिरिक्त मानदेय देने की घोषणा की है।

उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश आज मेडिकल के क्षेत्र में आत्मनिर्भर हो रहा है। हर जिले में  मेडिकल की सुविधा की व्यवस्था की योजना है। कोरोना महामारी में आशा बहुओं ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।  उन्होंने कहा कि कोविड टेस्ट का कमा गांव में तेजी से हो रहा है।  भारतीय जनता पार्टी की सरकार लोगों को स्वास्थ्य सेवाओं पहुंचाने का काम किया है। ऑक्सीजन के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश आत्मनिर्भर  हो रहा है।

बता दें कि सीएम योगी ने अभी दो दिन पहले रसोइयों और अनुदेशकों के मानदेय को बढ़ाने का फैसला किया है। उनके मानदेय में 2000 रुपये और रसोइयों का मानदेय 500 रुपये बढ़ाया गया है।  इसके अलावा रसोइयों को साल में दो साड़ियां भी देने की घोषणा की है। वहीं सरकार ने  रसोइया को 5 लाख के स्वास्थ्य बीमा का लाभ देने की व्यवस्था का प्रावधान किया है।  उत्तर प्रदेश के परिषदीय स्कूलों में  30 हजार अनुदेशक है। काफी समय से मानदेय बढ़ाने के लिए धरना दे रहे थे। वहीं अब आशा बहुओं को  स्मार्टफोन देकर डिजिटल इंडिया को बढ़ावा दे रहे हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.