कोरोना के किस वेरिएंट का शिकार हुए CM सहित अन्य नेता, स्वास्थ्य विभाग अभी तक नहीं कर पाया खुलासा

पटनाः बिहार में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित कई नेता पॉजिटिव पाए गए। लेकिन वह सब किस वेरिएंट का शिकार हुए, स्वास्थ्य विभाग अभी तक यह भी पता नहीं कर पाया। विभाग के लिए इससे शर्मनाक बात और क्या हो सकती है कि अभी तक मुख्यमंत्री की ही जिनोम सिक्वेंसिंग नहीं हुई है।

दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 10 जनवरी 2022 की शाम को ट्वीट कर कोरोना पॉजिटिव हाने की जानकारी दी थी। इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, बिहार के दोनों उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणू देवी सहित कई वीआईपी लोग कोरोना संक्रमित हो गए। इसके बाद सभी संक्रमित नेताओं ने खुद को होम आइसोलेट कर लिया। लेकिन स्वास्थ्य विभाग अभी तक इस बात का खुलासा नहीं कर पाया है कि सभी नेता ओमिक्रॉन या डेल्टा वेरिएंट में से किस वैरिएंट से संक्रमित हुए।

हालांकि ICMR की नई गाइडलाइन के मुताबिक, नीतीश कुमार को कोरोना नेगेटिव माना जा सकता है, क्योंकि होम आइसोलेशन में रहने वाले संक्रमितों को अगर अंतिम के 3 दिनों तक लगातार बुखार नहीं आया, वह 7 दिन में खुद को निगेटिव मान सकते हैं। उधर, जिनोम सिक्वेंसिंग को लेकर स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि यह काम WHO कराता है। साथ ही जिनोम सिक्वेंसिंग उन्हीं लोगों का कराया जाएगा, जिनका CT स्कोर 25 से अधिक होगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ब्रेकिंग
जहानाबाद दोहरे हत्याकांड में सात आरोपियों को सश्रम आजीवन कारावास डोनियर ग्रुप ने लॉन्च किया ‘नियो स्ट्रेच # फ़्रीडम टू मूव’: एक ग्रैंड म्यूज़िकल जिसमें दिखेंगे टाइगर श... छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने हेतु मनी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राबड़ी, मीसा, हेमा यादव के खिलाफ ईडी के पास पुख्ता सबूत, कोई बच नहीं सकता “समान नागरिक संहिता” उत्तराखंड में लागू - अब देश में लागू होने की बारी नगरनौसा हाई स्कूल के मैदान में प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को दिलाया पांच‌ प्रण बिहार में समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को नहीं मिल रहा लाभ : राधिका जिला पदाधिकारी ने रोटी बनाने की मशीन एवं अन्य सामग्री उपलब्ध कराया कटिहार में आरपीएफ ने सुरक्षा सम्मेलन किया आयोजित -आरपीएफ अपराध नियंत्रण में जागरूक करने के प्रयास सफ...