Logo
ब्रेकिंग
शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता मुख्यमंत्री ने ललित भवन में स्व० ललित नारायण मिश्र जी की प्रतिमा का किया अनावरण मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव मुख्यमंत्री ने लोहिया पथ चक्र के निर्माण कार्य की प्रगति का किया निरीक्षण आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म 'द क्रू' में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार... ठोस क्रियान्वयन के लिए निरंतर सत्यापन किया जाए : राज्यपाल पटेल मध्य प्रदेश में कलेक्टर-कमिश्नर कान्फ्रेंस शुरू, सीएम शिवराज कर रहे अधिकारियों से बात

बच्चों के वैक्सीनेशन के मामले में फिसड्डी हुआ बिहार, राष्ट्रीय औसत के बराबर भी नहीं लगा टीका

पटना: प्रदेश में राज्य सरकार ने 15 से 18 वर्ष के बच्चों के कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत 31 जनवरी तक प्रदेश के सभी 83.46 लाख बच्चों को फर्स्ट डोज का टीका देने का लक्ष्य रखा है. लेकिन, 21 जनवरी तक प्रदेश में 15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेशन की रफ्तार काफी सुस्त है और प्रदेश में अब तक इस उम्र वर्ग के 32.50 लाख बच्चों का ही वैक्सीनेशन हो पाया है. यहां वैक्सीनेशन औसतन 40 फीसदी का है.प्रदेश का वैक्सीनेशन औसत राष्ट्रीय वैक्सीनेशन दर से 12 फीसदी कम है. बताते चलें कि देश में राष्ट्रीय वैक्सीनेशन दर 15 से 18 वर्ष के बच्चों का 52% हो चुका है. प्रदेश में 15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेशन के मामले में जमुई टॉप जिला बना हुआ है और यहां 1,34938 एलिजिबल लाभार्थियों में 71,578 वैक्सीनेशन हो गए हैं. यानी कि 53.05%. दूसरे नंबर पर पूर्वी चंपारण है जहां एलिजिबल लाभार्थियों की संख्या 374744 है और यहां 195250 वैक्सीनेशन हो गए हैं यानी कि 52.10%.वैक्सीनेशन के मामले में प्रदेश में बक्सर तीसरे नंबर का जिला है और यहां 1,48508 एलिजिबल लाभार्थियों में 17,480 वैक्सीनेशन हुए हैं. यानी कि वैक्सीनेशन का कुल 47.47%. प्रदेश में 15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेशन की स्थिति देखें तो किशनगंज सबसे फिसड्डी जिला है. यहां 1,46524 एलिजिबल लाभार्थियों में 21,995 वैक्सीनेशन हुआ है और यह 21.84% है. किशनगंज के बाद कटिहार जिला है जहां से प्रदेश के डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद आते हैं.किशनगंज में 25.64% वैक्सीनेशन हुआ है यानी कि 2,44012 एलिजिबल लाभार्थियों में 62,572 का वैक्सीनेशन हुआ है. तीसरा सबसे फिसड्डी जिला औरंगाबाद है और यहां 2,10377 एलिजिबल लाभार्थियों में 66294 का ही वैक्सीनेशन हुआ है और यह 31.51% है.प्रदेश की राजधानी पटना में भी 15 से 18 वर्ष के वैक्सीनेशन के मामले में फिसड्डी है और प्रदेश में वैक्सीनेशन का औसत 38.93% है. वहीं राजधानी पटना का वैक्सीनेशन प्रतिशत 33.22% है

Leave A Reply

Your email address will not be published.