Logo
ब्रेकिंग
चीकू की खेती से होगी 5 लाख रुपये तक की कमाई केजरीवाल ने कांग्रेस को हराने के लिए शराब घोटाला किया : अजय माकन बीएमसी बजट 2023-24 - मुंबई के इन पांच जगहो पर लगेंगे एयर प्यूरीफायर ! उद्योग में तकनीकी उन्नयन के लिए एनर्जी बॉन्ड जारी करने पर विचार कर रहा पाकिस्तान मा0 अध्यक्ष जिला पंचायत ने महामाया राजकीय महाविद्यालय भिट्टी में ’’वार्षिक क्रीडा प्रतियोगिता’’ का क... भोपाल-इंदौर में लोकसभा चुनाव से पहले दौड़ेगी भोपाल मेट्रो  छावला गैंगरेप मामले में बरी हुआ शख्स और उसका दोस्त हत्या के आरोप में गिरफ्तार व्यक्ति को जमीन पर गिराकर मारने का VIDEO....दो दिन पूर्व का बताया जा रहा, शराब के नशे में था पीड़ित जल्द शुरू होने वाला है दीघा रेलवे स्टेशन, सेंट्रल रेलवे ने पूरी की तैयारी हिंदुओं के हाथ से अगरबत्ती छुड़ाकर मोमबत्ती थमाने के चल रहे प्रयास

बिहार के अस्पतालों में कोविड वैक्सीनेशन के साथ-साथ जारी है नियमित टीकाकरणः स्वास्थ्य मंत्री

पटनाः बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि राज्य के आंगनबाड़ी केंद्रों, जिला और प्रखंड स्तर के अस्पतालों में कोविड वैक्सीनेशन के साथ-साथ नियमित टीकाकरण किया जा रहा है।

मंगल पांडेय ने गुरुवार को कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बीच अन्य स्वास्थ्य सेवाओं को सुद्दढ़ करने के लिए विभाग प्रयासरत है। आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं में से एक महत्वूपर्ण कार्यक्रम नियमित टीकाकरण है। नियमित टीकाकरण कार्यक्रम को और अधिक सुद्दढ़ करने के लिए विभाग प्रतिबद्ध है ताकि गर्भवती एवं शिशु का ससमय टीकाकरण हो सके और बेहतर स्वास्थ्य सेवा का लाभ मिल सकें।

मंत्री ने कहा कि इसके लिए राज्य के विभिन्न आंगनबाड़ी केंद्रों के साथ जिला और प्रखंड स्तर के अस्पतालों में कोविड वैक्सीनेशन के साथ-साथ नियमित टीकाकरण किया जा रहा है। ग्रामीण इलाकों में प्रत्येक सप्ताह बुधवार और शुक्रवार को आंगनबाड़ी केंद्रों पर नियमित टीकाकरण किया जा रहा है। इस दौरान कोविड वैक्सीनेशन के प्रति भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है। कोविड के दौरान नियमित टीकाकरण सरकार के लिए बड़ी जिम्मेदारी थी, जिसे विभाग ने चुनौती के रूप में लिया।

मंगल पांडेय ने कहा कि नियमित टीकाकरण के तहत बच्चों को खसरा, टिटनेस, पोलियो, क्षय रोग, गलाघोंटू, काली खांसी और हेपेटाइटिस बी समेत 12 तरह की रोगों से रक्षा के लिए टीकाकरण किया जाता है। उन्होंने कहा कि निजी अस्पतालों में लोगों को टीकाकरण कराने में ज्यादा खर्च होता है। सरकारी अस्पतालों में टीकाकरण कराने से लोगों को आर्थिक बचत होती है। इसके अलावा केंद्र पर गर्भवती महिलाओं को भी टीका लगाया जा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.