IGIMS में बच्चों की एंट्री हुईं बैन, जानिए क्या है पूरा मामला

पटना। इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में अब बच्चों का प्रवेश बंद कर दिया गया है। अगर इलाज कराना होगा तभी बच्चे वार्ड में जा पाएंगे। मरीज को देखने या फिर ऐसे ही गार्जियन के साथ वह नहीं जा पाएंगे। इसके लिए आदेश जारी कर दिया गया है। गार्डों को माइकिंग से इस आदेश को प्रचारित करने के साथ बच्चों को वार्ड में जाने से रोकने को कहा गया है

बच्चों में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर बनी व्यवस्था

इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के मेडिकल सुपरिटेंडेट डॉक्टर मनीष मंडल ने बताया कि बच्चों में कोरोना के संक्रमण को देखते हुए सुरक्षा को लेकर ऐसी व्यवस्था बनाई गई है। अब संस्थान के वार्डों में ऐसे ही बच्चों को आने दिया जाएगा जिनका इलाज कराया जाना है। बिना इलाज वाले बच्चों को अब वार्ड में जाने से पूरी तरह से रोका जाएगा। संस्थान के कैंपस में तैनात सुरक्षा कर्मियों को जिम्मेदारी दी गई है वह बिना इलाज वाले बच्चों को वार्ड में जाने से रोकेंगे। सोमवार से यह व्यवस्था शुरू की जाएगी, इसमें गार्डों को माइकिंग से लोगों को अवेयर करने को कहा गा है।

बच्चों को संक्रमण का खतरा

डॉ. मनीष मंडल का कहना है कि बच्चों में संक्रमण का खतरा अधिक होता है। बच्चे सुरक्षा को लेकर कोई ध्यान भी नहीं दे पाते हैं। ऐसे में कोरोना काल में यह व्यवस्था बनाई गई है कि बच्चों को वार्डों में जाने से रोका जाए। इसके तहत ही आदेश जारी किया गया है। जिन बच्चों का इलाज होना है उन्हें नहीं रोका जाएगा, लेकिन जो बच्चे घर वालों के साथ ऐसे ही IGIMS आ रहे हैं उनके लिए वार्ड में जाने पर पूरी तरह मनाही रहेगी। डॉक्टर मनीष मंडल का कहना है कि ऐसे बच्चों पर संस्थान में नजर रखी जाएगी जो गार्जियन के साथ बिना काम के वार्ड में जाएंगे। अब संस्थान ने ऐसे बच्चों को वार्ड में जाने पर रोक लगाई है जिन्हें कोई बीमारी नहीं है, पर वह परिवार के साथ अस्पताल चले आए हैं। संक्रमण के बढ़ते खतरे को लेकर सुरक्षा कर्मियों को विशेष निगरानी को कहा गया है

Leave A Reply

Your email address will not be published.

ब्रेकिंग
जहानाबाद दोहरे हत्याकांड में सात आरोपियों को सश्रम आजीवन कारावास डोनियर ग्रुप ने लॉन्च किया ‘नियो स्ट्रेच # फ़्रीडम टू मूव’: एक ग्रैंड म्यूज़िकल जिसमें दिखेंगे टाइगर श... छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने हेतु मनी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राबड़ी, मीसा, हेमा यादव के खिलाफ ईडी के पास पुख्ता सबूत, कोई बच नहीं सकता “समान नागरिक संहिता” उत्तराखंड में लागू - अब देश में लागू होने की बारी नगरनौसा हाई स्कूल के मैदान में प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को दिलाया पांच‌ प्रण बिहार में समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को नहीं मिल रहा लाभ : राधिका जिला पदाधिकारी ने रोटी बनाने की मशीन एवं अन्य सामग्री उपलब्ध कराया कटिहार में आरपीएफ ने सुरक्षा सम्मेलन किया आयोजित -आरपीएफ अपराध नियंत्रण में जागरूक करने के प्रयास सफ...