कानपुर पुलिस कमिश्नर का बड़ा फैसला, BJP ज्वाइन करेंगे अरुण असीम… कन्नौज सदर से लड़ेंगे चुनाव

कानपुर: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही राजनीतिक पार्टियों में उथल-पुथल मच गया है। इसी क्रम में कानपुर के पुलिस कमिशनरेट अरुण असीम ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन करने का फैसला लिया है। उन्होंने इसकी जानकारी अपने फैसबुक एकाउंट से दी है। असीम ने बताया कि मैं राजनीति में उतरकर जनता की सेवा करुंगा।

अरुण असीम ने अपने पोस्ट में लिखा कि मैं बहुत गौरवान्वित अनुभव कर रहा हूं कि माननीय योगी आदित्यनाथ जी ने मुझे भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता के योग्य समझा मैं प्रयास करूंगा कि पुलिस बलों के संगठन के अनुभव और सिस्टम विकसित करने के कौशल से पार्टी को अपनी सेवाएं दूं। पार्टी में विविध अनुभव के व्यक्तियों को शामिल करने की माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की पहल को सार्थक बनाएं मैं प्रयास करूंगा कि महात्मा गांधी द्वारा दिए तिलस्क की सबसे कमजोर और गरीब व्यक्ति के हितार्थ हमेशा कार्य करु। आईपीएस की नौकरी और यह सब सम्मान सब बाबा साहब अंबेडकर द्वारा अवसर की समानता के लिए उचित व्यवस्था के कारण ही संभव में उनके उच्च आदर्शों का अनुसरण करते हुए अनुसूचित जाति और जनजाति एवं सभी भाइयों और बहनों के सम्मान सुरक्षा और स्थान के लिए कार्य करूंगा।

बता दें कि इस बात की जानकारी लखनऊ के सीनियर जनर्लिस्ट गौरव सिंह सेंगर ट्विटर पर इस जानकारी को साझा किया है। जिसके सबूत के तहत उन्होंने यह भी बताया है कि असीम अरुण ने सीएम योगी आदित्यनाथ से असीम अरुण ने दोपहर में मुलाकात की थी।  जिसके बाद यह फैसला लिया है।

अरुण असीम की जीवनी:-
एडीसी रैंक के आसिम अरुण आईपीएस 1994 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। उनका जन्म 3 अक्टूबर 1970 को बदायूं में हुआ था। उनके पिता श्री राम अरुण की गिनती भी प्रदेश के तेजतर्रार आईपीएस में होती थी। उन्होंने राज्य के डीजीपी का पद भी संभाला। आसिम अरुण की मां शशि अरुण जानी-मानी लेखिका हैं। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सेंट फ्रांसिस कॉलेज, लखनऊ से की और बीएससी सेंट स्टीफंस कॉलेज, दिल्ली से किया। आईपीएस असीम अरुण ने सिविल सर्विसेज में हाथ आजमाया। इसका कारण यह था कि पिता उन्हें अपने जैसा आईपीएस अधिकारी बनते देखना चाहते थे। आईपीएस अधिकारी बनने के बाद असीम अरुण धीरे-धीरे यूपी पुलिस की रीढ़ बन गए।

असीम अरुण 1994 Btach IPS अधिकारी हैं। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा सेंट फ्रांसिस स्कूल लखनऊ से की और बीएससी स्टेपेंस कॉलेज दिल्ली से किया। यूपी एटीएस के इस वीर अधिकारी को सूचना मिली थी कि कानपुर के केडीए कॉलोनी निवासी आईएसआईएस का आतंकी सैफुल्ला लखनऊ में छिपा है और किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की कोशिश कर रहा है। फिर उसने एटीएस कमांडो के साथ ठाकुरगंज इलाके में आतंकी को घेर कर मार गिराया।

भारतीय पुलिस सेवा में शामिल होने के बाद, उन्होंने हाथरस, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, आगरा, अलीगढ़ और गोरखपुर में पुलिस अधीक्षक और पुलिस उप महानिरीक्षक के रूप में कार्य किया। इसके बाद उन्होंने लखनऊ एटीएस में भी कार्यभार संभाला। अभी तक असीम अरुण यूपी 112 में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एडीजी का पद संभाल रहे थे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ब्रेकिंग
जहानाबाद दोहरे हत्याकांड में सात आरोपियों को सश्रम आजीवन कारावास डोनियर ग्रुप ने लॉन्च किया ‘नियो स्ट्रेच # फ़्रीडम टू मूव’: एक ग्रैंड म्यूज़िकल जिसमें दिखेंगे टाइगर श... छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने हेतु मनी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राबड़ी, मीसा, हेमा यादव के खिलाफ ईडी के पास पुख्ता सबूत, कोई बच नहीं सकता “समान नागरिक संहिता” उत्तराखंड में लागू - अब देश में लागू होने की बारी नगरनौसा हाई स्कूल के मैदान में प्रखंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को दिलाया पांच‌ प्रण बिहार में समावेशी शिक्षा के तहत दिव्यांग बच्चों को नहीं मिल रहा लाभ : राधिका जिला पदाधिकारी ने रोटी बनाने की मशीन एवं अन्य सामग्री उपलब्ध कराया कटिहार में आरपीएफ ने सुरक्षा सम्मेलन किया आयोजित -आरपीएफ अपराध नियंत्रण में जागरूक करने के प्रयास सफ...