Logo
ब्रेकिंग
चीकू की खेती से होगी 5 लाख रुपये तक की कमाई केजरीवाल ने कांग्रेस को हराने के लिए शराब घोटाला किया : अजय माकन बीएमसी बजट 2023-24 - मुंबई के इन पांच जगहो पर लगेंगे एयर प्यूरीफायर ! उद्योग में तकनीकी उन्नयन के लिए एनर्जी बॉन्ड जारी करने पर विचार कर रहा पाकिस्तान मा0 अध्यक्ष जिला पंचायत ने महामाया राजकीय महाविद्यालय भिट्टी में ’’वार्षिक क्रीडा प्रतियोगिता’’ का क... भोपाल-इंदौर में लोकसभा चुनाव से पहले दौड़ेगी भोपाल मेट्रो  छावला गैंगरेप मामले में बरी हुआ शख्स और उसका दोस्त हत्या के आरोप में गिरफ्तार व्यक्ति को जमीन पर गिराकर मारने का VIDEO....दो दिन पूर्व का बताया जा रहा, शराब के नशे में था पीड़ित जल्द शुरू होने वाला है दीघा रेलवे स्टेशन, सेंट्रल रेलवे ने पूरी की तैयारी हिंदुओं के हाथ से अगरबत्ती छुड़ाकर मोमबत्ती थमाने के चल रहे प्रयास

तृणमूल विधायक ने दी सुवेंदु को आमने-सामने लड़ाई की चुनौती, कहा- शेर भूखा मर जाएगा, लेकिन चूहा नहीं खाएगा

कोलकाता। अपने बयानों के लिए अक्सर सुर्खियों में रहने वाले बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के विधायक व पूर्व मंत्री मदन मित्रा ने विधानसभा में विपक्ष के नेता व नंदीग्राम से भाजपा विधायक सुवेंदु अधिकारी को खुलकर चुनौती दे डाली और आमने-सामने की लड़ाई का आह्वान किया। खड़गपुर sमें इंटक के समारोह को संबोधित करते हुए मित्रा ने सुवेंदु को बंगाल की 294 विधानसभा सीटों में से किसी भी सीट पर लड़ाई की चुनौती दी। इसके साथ ही तृणमूल विधायक ने कहा कि शेर भूखा मर जाएगा, लेकिन चूहा नहीं खाएगा। इस दौरान उन्होंने यह भी दावा किया कि तृणमूल आगामी नगर-निकाय चुनावों में बंगाल की सभी सीटों पर जीत हासिल करेगी।

दूसरी तरफ, मदन मित्रा की इस चुनौती के जवाब में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद दिलीप घोष ने कहा कि सुवेंदु अधिकारी नंदीग्राम में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को हरा चुके हैं। यह दुख सहन नहीं होने पर मदन मित्रा इस तरह की बातें कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मदन मित्रा बंगाल के लिए एक अच्छे कामेडियन हैं। वह सुबह एक बात तो दोपहर कुछ और बोलते हैं एवं रात कोई दूसरी बात बोलते हैं। वह कब क्या बोलते हैं, कोई ठीक नहीं रहता।

उन्होंने कहा कि मित्रा के बारे में कहने को कुछ नहीं है। बंगाल के लोग उन्हें अच्छी तरह जानते हैं। वहीं, मित्रा की चुनौती और दावे पर प्रदेश भाजपा के मुख्य प्रवक्ता शमिक भट्टाचार्य ने भी पलटवार किया। उन्होंने कहा कि मदन मित्रा गीत-संगीत को लेकर व्यस्त हैं। इसलिए उन्हें ऐसी बातें करने की क्या जरूरत है। इस समय वह खुशमिजाज हैं। उन्होंने मदन मित्रा को एक रंगीन चरित्र के रूप में भी वर्णित किया। भाजपा नेता ने यह भी कहा कि मदन मित्रा के इन बयानों को लोग ठीक से नहीं ले रहे हैं। चुनाव में लोग इसका जवाब देंगे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.