Logo
ब्रेकिंग
अमित शाह कल करेंगे चुनावी राज्य कर्नाटक का दौरा अपनी छोड़ सारे जहां की चिंता कर भोपाल के विद्यार्थी ने जीता पीएम मोदी का मन दिल्ली में न्यूनतम तापमान 6.1 डिग्री सेल्सियस, वायु गुणवत्ता ‘खराब' श्रेणी में बजट से पूर्व भारत को US फार्मा उद्योग की सलाह- दवा क्षेत्र के लिए बनाए अनुसंधान एवं विकास नीति Corona Update: भारत में दम तोड़ रहा कोरोना, 24 घंटे में 100 से भी कम नए केस सड़क का खंबा नहीं होता तो अंधगति से आ रहे ट्रक थाना मोबाइल को ठोकता हुआ अंदर होता, cctv में दिखा कैसे... MP: मुरैना में बड़ा हादसा, वायुसेना का सुखोई-30 और मिराज हुए क्रैश सूरत के उधना इलाके में कार शोरूम में लगी भीषण आग रूठों को मनाने के लिए कांग्रेस चलाएगी घर वापसी अभियान ‘मूड ऑफ दि नेशन सर्वे’ में बजा CM योगी का डंका, 39.1 फीसदी लोगों ने माना बेस्ट परफॉर्मिंग चीफ मिनिस्...

दरभंगा एयरपोर्ट पर डीजीसीए गाइडलाइन के अनुरूप यात्रियों को नहीं मिल रही सुविधा

दरभंगा। दरभंगा एयरपोर्ट पर पिछले दो दिनों से फ्लाइटें रद हो रहीं थीं। इसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ा है। सेवा प्रदाता कंपनी की ओर से फ्लाइट के कैंसिल होने की स्थिति पर या तो पैसे रिफंड करने की बात कही जा रही, या फिर फ्लाइट को री-शेड्यूल करने की बात। लेकिन, परेशानी इतने से समाप्त नहीं होती। दरभंगा एयरपोर्ट से दरभंगा के अलावा बगहा, बेतिया, मोतिहारी, सुपौल, सहरसा, फारबिसगंज, पूर्णिया, कटिहार सहित 19 जिलों से लोग सफर करने पहुंचते है। बोर्डिंग के बाद सोमवार को फ्लाइट से उतार दिए जाने की घटना से यात्री काफी आहत है। पांच दिसंबर को दरभंगा से बेंगलुरू जाने वाले राकेश कुमार ने बताया कि वे फ्लाइट पकड़ने किराए की गाड़ी से सीतामढ़ी से आए थे। गाड़ी से उतरकर वे एयरपोर्ट गए। जहां करीब दो घंटे के बाद फ्लाइट पर बैठाया गया। लेकिन, कुछ ही देर बाद तकनीकी कारणों का हवाला देते हुए उतार दिया गया। कहा गया कि फ्लाइट का री-शेड्यूल करा लें, अन्यथा पैसे रिफंड हो जाएंगे।

ऐसी स्थिति में उनके समक्ष मुश्किलें खड़ी हो गई। बताया कि देश के अन्य एयरपोर्ट पर यह सुविधा है कि यदि फ्लाइट डिले होती है तो रिफ्रेशमेंट दिया जाता है। यदि फ्लाइट 24 घंटे देरी से प्रस्थान करेगी तो संबंधित विमानन कंपनी को यात्रियों को किसी होटल में ठहराना होता है। लेकिन, दरभंगा एयरपोर्ट पर इस प्रकार की कोई सुविधा यात्रियों को नहीं दी जा रही है। ऐसी स्थिति में दरभंगा एयरपोर्ट की जितनी लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है, यदि ऐसी ही सर्विस मिलेगी तो यात्री दरभंगा छोड़ दूसरे स्थान में फ्लाइट पकड़ने की विवशता होगी। इस संबंध में जब संबंधित सेवा प्रदाता कंपनी के स्थानीय मैनेजर से बात करने की कोशिश की गई तो कोई जबाव नहीं मिला।

एविएशन रेगुलेटर नागरिक विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) के नियम

डीजीसीए के मुताबिक, रिफंड की स्थिति में यदि किसी यात्री ने टिकट के लिए कैश भुगतान किया है तो एयरलाइंस कंपनी को तुरंत रिफंड करना होगा। क्रेडिट कार्ड से भुगतान करने की स्थिति में सात दिनों के अंदर पैसा लौटाया जाता है। जबकि, यदि यात्री ने ट्रेवल एजेंट से टिकट बुक कराया है तो उन्हें ट्रेवल एजेंट से संपर्क करना होगा।

फ्लाइट में देरी को लेकर क्या है नियम

डीजीसीए का नियम कहता है कि निर्धारित समय से 24 घंटे से कम की देरी पर यात्री रिफ्रेशमेंट के हकदार है। यदि फ्लाइट में 24 घंटे से अधिक की देरी होती है तो यात्री को होटल में ठहराने की व्यवस्था एयरलाइंस कंपनी को करनी होगी।

वॉच ऑवर की अवधि के बाद उड़ान पर लग जाती रोक

दरभंगा एयरपोर्ट एक सैन्य हवाई पट्टी है। यहां विमानों के आवागमन को लेकर एयरफाेर्स प्रशासन ने समय निर्धारित कर रखा है। वर्तमान में दरभंगा एयरपोर्ट पर सुबह के 10.45 से शाम 16.45 तक विमानों की आवाजाही को मंजूरी दी गई है। यदि इसके बाद कोई फ्लाइट टेक ऑफ करना चाहेगा तो नियमत: उड़ान पर रोक लगा दी जाती है। वाच आवर के बाद विमानों की आवाजाही नहीं होने के कई कारण है। इनमें एक रात के वक्त जंगली जानवरों की समस्या सबसे बड़ी है। इस संबंध में एयरपोर्ट डायरेक्टर मनीष कुमार ने बताया कि फ्लाइटों को वाच आवर के अंदर आवाजाही करनी होती है। इसके बाद एयरफोर्स प्रशासन की ओर से मनाही है। बताया कि अंतिम फ्लाइट का समय शाम के 16.45 बजे निर्धारित है। यदि कोई फ्लाइट 16.30 में दरभंगा एयरपोर्ट पहुंचती है तो नियमत: निर्धारित समय के बाद उड़ान नहीं भर सकती हैं। वह फ्लाइट दूसरे दिन सुबह उड़ान भरेगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.