Logo
ब्रेकिंग
शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता मुख्यमंत्री ने ललित भवन में स्व० ललित नारायण मिश्र जी की प्रतिमा का किया अनावरण मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव मुख्यमंत्री ने लोहिया पथ चक्र के निर्माण कार्य की प्रगति का किया निरीक्षण आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म 'द क्रू' में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार... ठोस क्रियान्वयन के लिए निरंतर सत्यापन किया जाए : राज्यपाल पटेल मध्य प्रदेश में कलेक्टर-कमिश्नर कान्फ्रेंस शुरू, सीएम शिवराज कर रहे अधिकारियों से बात

Mokshda Ekadashi: इस दिन रखा जाएगा मोक्षदा एकादशी का व्रत, इस विधि से करें पूजा तो होगी शुभ फल की प्राप्ति

Mokshda Ekadashi 2022: हर साल मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी का व्रत रखा जाता है. इस बार यह व्रत 3 दिसंबर को रखा जाएगा. इस दिन कुछ नियमों का जरूर पालन करना चाहिए.

Mokshda Ekadashi Puja Vidhi: मोक्षदा एकादशी के दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा करने से जीवन के कष्टों से छुटकारा मिलता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है. मोक्षदा एकादशी का व्रत हर साल मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को रखा जाता है. इस साल यह तारीख 3 दिसंबर के दिन पड़ रही है. इन दिन व्रत रखने के साथ कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है, वरना व्रत का फल प्राप्त नहीं होता है. वहीं, इस दिन विधि-विधान से पूजा भी की जानी चाहिए.

नियम 

मोक्षदा एकादशी के दिन व्रत रखने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और वैकुंठ में जगह की प्राप्ति होती है. इस दिन व्रत करने के साथ ही कुछ नियमों का पालन करना जरूरी होता है. मोक्षदा एकादशी के दिन मांसाहार का सेवन नहीं करना चाहिए.

भोजन

इस दिन बिल्कुल सात्विक भोजन करना चाहिए. इस कंद, फल खा सकते हैं. वहीं, प्याज, लहसुन, मसूर की दाल, चावल, बैंगन को हाथ नहीं लगाना चाहिए और न ही किसी भी तरह के भोजन में इसका इस्तेमाल करना चाहिए. इस दिन भगवान विष्णु के मंत्रों का जाप करें और कथा सुनें.

पूजा विधि

मोक्षदा एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठें. इसके बाद स्नान करने के बाद घर के मंदिर में दीप जलाएं. भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक करें और तुलसी, फूल अर्पित करें. जो लोग व्रत रखना चाहते हैं तो इसका संकल्प लें. इसके बाद भगवान को भोग लगाएं और साथ ही मां लक्ष्मी की पूजा भी करें. इसके बाद आरती करें.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. )

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.